उन्नाव, जेएनएन। हसनगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में शादी का झांसा देकर लगातार दुष्कर्म की शिकार युवती ने सोमवार को एसपी आफिस के गेट पर खुद को आग लगा ली। आग का गोला बनी युवती आफिस के भीतर घुसी तो हड़कंप मच गया। मौजूद महिला पुलिस कर्मियों ने तत्परता दिखाते हुए जलते कपड़े फाड़कर निकाल दिए और तुरंत कंबल में लपेट लिया। जिला अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद नाजुक हालत में उसे कानपुर रेफर किया गया है। डाक्टरों ने युवती के 50 फीसद जलने की बात कही है। 

 

दुष्कर्म पीड़िता को जलाने और उसकी मौत का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि सोमवार को एक और घटना से पुलिस और प्रशासन सन्न रह गया। सुबह करीब 11.30 बजे एसपी कार्यालय के मुख्य गेट पर पहुंची युवती ने खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। इसके बाद वह दौड़ते हुए एसपी कार्यालय के भीतर घुसने लगी। आग का गोला बनी युवती को देखकर पुलिसकर्मी सहम गए। महिला पुलिसकर्मियों ने तत्परता दिखाते हुए युवती के शरीर से कपड़े निकाले और कंबल में लपेटकर उसकी जान बचाई। पुलिस ने उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां पर सीओ सिटी और सिटी मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में उपचार शुरू कराया गया।

जानकारी होते ही डीएम देवेंद्र कुमार पांडेय और एसपी विक्रांत वीर भी पहुंच गए और युवती से पूरे मामले की जानकारी ली। युवती ने आरोप लगाते हुए कहा कि शादी का झांसा देकर उससे दुष्कर्म किया गया। तीन माह पहले उसने हसनगंज कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी लेकिन पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार नहीं किया। कई बार कोतवाली में फरियाद करने पर भी आरोपित की गिरफ्तारी न होने पर उसने कदम उठाया। घटना की जानकारी के बाद एसपी ने मातहतों को फटकार लगाई। वहीं गांव में युवती की मां का कहना है कि बेटी को गांव के युवक ने शादी का झांसा दिया और लगातार दुष्कर्म किया। बेटी ने घटना को लेकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

30 सितंबर को घर पर की थी मारपीट

दुष्कर्म की घटना के बाद मामले को दबाने के लिए मुख्य आरोपित अवधेश सिंह और उसके साथियों ने युवती के घर पर धावा बोलते हुए मारपीट की थी। इस दौरान युवती को जान से मारने की धमकी भी दी गई थी।

दो अक्टूबर को चार के खिलाफ दर्ज हुआ था मुकदमा

30 सितंबर को पीड़िता  के घर पर मारपीट करने के मामले में उसने एसपी को प्रार्थना पत्र दिया था। इसपर दो अक्टूूबर को शारीरिक शोषण करने के मुख्य आरोपी अवधेश सिंह, उसके भाई-भाई व एक अन्य के खिलाफ धारा दुष्कर्म और जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा हसनगंज कोतवाली में दर्ज हुआ था। इंस्पेक्टर हसनगंज अरुण सिंह ने बताया कि दुष्कर्म के मुकदमे में 13 दिसंबर को न्यायालय में चार्जशीट दाखिल कर दी गई थी।

आरोपितों ने हाईकोर्ट से कराई थी अग्रिम जमानत

इंस्पेक्टर अरुण सिंह ने बताया कि आरोपियों ने हाईकोर्ट से अग्रिम जमामत करा रखी थी, इससे गिरफ्तारी नहीं की गई। मामले में मुकदमा दर्ज करने के साथ पुलिस विवेचना पूर्ण कर न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल कर चुकी है।

Edited By: Abhishek