जागरण संवाददाता, कानपुर: सफल उद्यमी बनने के लिए कई लोगों ने राह पकड़ी तो तमाम चुनौतियां उनके सामने आईं पर मजबूत इच्छाशक्ति के चलते उनके अंदर आसमां छूने की चाहत जागी और वह खुद के पैरों पर आखिरकार सफलतापूर्वक खड़े हो गए। ऐसे ही कई उद्यमियों ने शुक्रवार को जब अपनी सफलता की कहानी सुनाई तो केडीए सभागार में मौजूद हर शख्स ने तालियों से उनका स्वागत किया। यहां आयोजन था ओडीओपी समारोह का। इसमें शहर के प्रमुख उद्यमियों- एलडी रूपानी, एसके पालीवाल, गुलशन धूपर, रमेश अग्रवाल, नवीन खन्ना, बलराम नरुला आदि को सम्मानित किया गया। इसके अलावा विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत ऋण प्राप्त कर अपना उद्यम स्थापित करने वाले उद्यमियों को भी सम्मान पत्र सौंपा गया। एमएसएमई की विभिन्न योजनाओं में 120 लाभार्थियों को कुल 16 करोड़ रुपये का ऋण स्वीकृत वितरण पत्र भी दिया गया। कार्यक्रम में विधायक नीलिमा कटियार व अभिजीत सिंह सांगा, एमएलसी अरुण पाठक, मंडलायुक्त सुभाष चंद्र शर्मा, डीएम विजय विश्वास पंत, संयुक्त आयुक्त उद्योग सर्वेश्वर शुक्ला आदि मौजूद रहे।

...............

केस एक: 13 वर्षो तक प्रोफेसर रहीं मकड़ीखेड़ा निवासी इंजीनियर सुधा ने सेनेटरी नैपकिन का व्यवसाय शुरू किया। दो साल तक इंजीनियर सुधा का यह काम गति पकड़ने लगा है। वह जल्द खुद का ऑटोमैटिक प्लांट लगाने की तैयारी कर रही हैं। सुधा कहती हैं बिजनेस करने के लिए हिम्मती होना चाहिए।

केस दो: 10वीं कक्षा पास करने के बाद मंझावन निवासी आरिफ अहमद ने मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना के तहत चमड़ा उत्पाद (चप्पल) तैयार करना शुरू किया। आरिफ को यह काम करते लगभग 20 साल हो गए। वह अपने भाई के साथ यह काम करते हैं। आरिफ का कहना है मेहनत कर सफलता हासिल की है। अपने उद्यम से खुश हूं।

Posted By: Jagran