कानपुर, जेएनएन। शहर में एक दिन पहले 45 मिनट की बारिश और तेज हवा के असर से अधिकतम दो और न्यूनतम में छह डिग्री सेल्सियस तक पारा गिर गया लेकिन इसका असर मौसम पर नहीं पड़ा है। तेज हवा से पारे में गिरावट आई लेकिन आद्रता बढ़ जाने से उमस सितम ढा रही है। मौसम विभाग ने दो दिन बाद मानसूनी सिस्टम सक्रिय होने की उम्मीद जताई है। इससे बारिश की संभावना बन रही है।

दो दिन पहले कानपुर शहर में 40 मिलीमीटर बारिश हुई थी, जबकि हवा 20 किलोमीटर से तेज रफ्तार से चली थी। लेकिन, इस बारिश से कोई खास असर गर्मी पर नहीं पड़ा है। अगले दो दिन इसी तरह की स्थिति रहने की उम्मीद है। उमस और गर्मी का प्रभाव फिर से बढ़ेगा और बदली छाई रह सकती है । चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि वातावरण में नमी का स्तर बढ़ गया है। हवा की रफ्तार पहले के मुकाबले बढ़ गई है। शुक्रवार की शाम को बादल होने से उमस का स्तर भी अधिक हो गया है। एक ट्रफ रेखा पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, झारखंड, उड़ीसा होते हुए बंगाल खाड़ी तक फैली हुई है।

उन्होंने बताया कि चक्रवाती हवा का क्षेत्र झारखंड और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है। दूसरा चक्रवाती हवा का क्षेत्र पूर्वोत्तर राजस्थान और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है। अगले 48 घंटों में आंध्र प्रदेश, ओडिशा, बंगाल की खाड़ी के ऊपर निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। तटीय कर्नाटक, कोंकण, गोवा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तमिलनाडु, विदर्भ, मराठवाड़ा, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में हल्की बारिश हो सकती है। उत्तर पूर्व भारत, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली में हल्की से मध्यम बारिश के आसार हैं।

Edited By: Abhishek Agnihotri