कानपुर, जागरण संवाददाता। मानसून की अक्षीय रेखा फिर राजस्थान, मध्यप्रदेश की ओर बढ़ी है। इसी वजह से शुक्रवार को बादलों की कमी रही और तेज धूप खिली। हालांकि गुरुवार रात झमाझम वर्षा ने 20 वर्ष का रिकार्ड तोड़ दिया। करीब 57.4 मिलीमीटर वर्षा हुई। इसके चलते शुक्रवार दिन में भी ठंडक का अहसास हुआ।मौसम विभाग ने अगले कुछ दिन तक रुक-रुककर वर्षा होने और बीच में तेज धूप खिलने की संभावना जताई है।

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि गुरुवार रात अचानक आकाश में आए घने बादलों के कारण न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री गिरकर 23.6 डिग्री सेल्सियस हो गया।

शुक्रवार को धूप खिलने से अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शुक्रवार सुबह से ही मानसून की अक्षीय रेखा राजस्थान के जैसलमेर, उदयपुर, मध्यप्रदेश में भोपाल, छत्तीसगढ़ के रायपुर, सुबरनापुर, ओडिशा के भुवनेश्वर होते हुए पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी की ओर गुजरने लगी। बंगाल की खाड़ी पर चक्रवाती हवा का क्षेत्र भी विकसित हुआ है, जो उत्तरी आंध्र प्रदेश व दक्षिण ओडिशा तट के पास है। पश्चिमी विक्षोभ मध्य पाकिस्तान व आसपास के क्षेत्र पर चक्रवाती परिसंचरण के रूप में है और दूसरा चक्रवाती हवा का क्षेत्र पूर्वोत्तर राजस्थान में बना है।

इसके चलते मानसून की रेखा बदली है और अब राजस्थान, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में तेज वर्षा हो रही है। कानपुर मंडल में अगले कुछ दिन तक बादलों की आवाजाही और कुछ स्थानों पर निम्न दबाव का क्षेत्र विकसित होने पर तेज वर्षा हो सकती है, बाकी स्थानों पर रुक-रुककर हल्की से मध्यम वर्षा की उम्मीद है।

मौसम का इनपुट

अधिकतम तापमान - 34.0 डिग्री सेल्सियस

न्यूनतम तापमान - 23.6 डिग्री सेल्सियस

सूर्योदय - 5.36 बजे

सूर्यास्त - 6.53 बजे

मौसम का हाल - आकाश में बादल छाएंगे और तेज हवा व गरज-चमक के साथ हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। तापमान में भी मामूली उतार चढ़ाव हो सकता है।

कल व परसों का मौसम- (डिग्री सेल्सियस में)

दिनांक - अधिकतम - न्यूनतम

06 अगस्त - 34.0 - 27.0

07 अगस्त - 31.0 - 26.0

Edited By: Abhishek Verma