कानपुर, जेएनएन। उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के ऊपर मौसमी सिस्टम सक्रिय होने से शहरों का मौसम बदल गया है। कानपुर में गुरुवार शाम से छाए बादलों और बारिश का सिलसिला जारी रहने से मौसम खुशनुमा हो गया है। मौसम विभाग की मानें तो अगले दो दिन तेज बारिश के आसार हैं और हवा सामान्य से तेज चलेगी, साथ ही तापमान भी तेजी से गिरेगा। 

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञान विभाग ने अगले दो दिन कानपुर सहित पूरे दक्षिण के जिलों में मध्यम से भारी बारिश की संभावना जताई है। भारतीय मौसम विभाग के न्यूमेरिकल माडल देखने पर ऐसी संभावना लग रही है कि कानपुर कानपुर देहात औरैया इटावा एवं बुंदेलखंड के सटे हुए जिलों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि अगले दो से तीन दिन में वर्षा की पूरी संभावना है। किसानों को यह सलाह दी जाती है कि वह अब खेतों में सिंचाई की गतिविधियां स्थगित रखें। खेतों में जल निकासी का अच्छा प्रबंध करें।

कीटनाशक दवाओं के छिड़काव को भी कम से कम एक सप्ताह के लिए स्थगित कर दें क्योंकि तेज हवा के साथ कहीं-कहीं हल्की कहीं-कहीं मध्यम से भारी बारिश होने की पूरी संभावना बन रही है। मौसमी प्रणालियां इसके लिए अनुकूल बनी हुई है। दक्षिण पश्चिमी मानसून हवा अरब सागर से होती हुई बंगाल की खाड़ी को पार करते हुए भरपूर नमी लेकर पूरे उत्तर भारत में तेजी से आ रही है और इस माह के आखिरी तक यही स्थितियां दिख रही हैं जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि पूरे महा मानसूनी गतिविधियां उत्तर उत्तर प्रदेश सहित पूरे उत्तर भारत में जारी रहेगी।

ट्रफ लाइन राजस्थान से मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के सटे हुए जिलों से छत्तीसगढ़ होती हुई उड़ीसा और बंगाल की खाड़ी तक जा रही है एक चक्रवर्ती हवा का क्षेत्र मध्य प्रदेश के साथ उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड से सटे हुए जिलों पर सक्रिय है, जो मानसून की गतिविधियों को थोड़ा बढा सकता है। डा. पांडेय के अनुसार मानसून चार अक्टूबर तक खींच सकता है। हवा सामान्य से तेज चलेगी, जबकि तापमान में उतार चढ़ाव होगा। वातावरण में नमी की अधिकता बनी हुई है। मौजूदा सिस्टम 30 मिलीमीटर से ज्यादा वर्षा की ओर इशारा कर रहे हैं।

Edited By: Abhishek Agnihotri