कानपुर, जेएनएन। जीएसवीएम मेडिकल कालेज के एलएलआर अस्पताल (हैलट) के जूनियर डाक्टर फिर अराजक होने लगे हैं। अस्पताल के मेडिसिन वार्ड में भर्ती बुजुर्ग पिता की पेशाब की नली बदलने का शनिवार से आग्रह कर रहे बेटे और बहू पर रविवार दोपहर जूनियर डाक्टर भड़क गए। मरीज के तीमारदारों का आरोप है कि अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने पर विरोध किया तो अपने पांच-छह साथियों को बुला लिया और कमरे में लेकर जाकर जमकर पिटाई की। पिटाई से महिला तीमारदार बेहोश हो गई। पुलिस ने इलाज के लिए इमरजेंसी भेजा तो वे डरकर थाने चले गए। पुलिस ने उन्हें मेडिकल के लिए उर्सला अस्पताल भेजा है।

रायपुरवा थाना क्षेत्र के देव नगर निवासी कमल अपने बुजुर्ग पिता को इलाज को चार दिन पहले एलएलआर अस्पताल में भर्ती कराया था। उनका इलाज मेडिसिन विभाग के वार्ड-14 के बेड 20 पर डा. रीना सिंह की यूनिट में चल रहा था। कमल का आरोप है कि शनिवार शाम से ही पिता को पेशाब में दिक्कत हो रही थी। पेशाब की नली बदलने का आग्रह जूनियर डाक्टर से कर रहे थे। वह लगातार अनसुना कर रहे थे। रविवार सुबह कई बार कहने पर भी ध्यान नहीं दिया। दोपहर में फिर से कहने पहुंचे तो डाक्टर भड़क गए। अभद्रता करते हुए धक्का देने लगे। विरोध करने पर मारपीट पर उतर आए। अपने पांच-छह जूनियर डाक्टरों को बुला लिया और मारने लगे। मेरी पत्नी शुकुंतला बचाने के लिए आई तो उसकी भी पिटाई की। जूनियर डाक्टरों की पिटाई से बेहोश हो गई। हंगामे की सूचना पर आई पुलिस बेसुध महिला को इलाज के लिए इमरजेंसी भेज दिया। दहशत की वजह से स्वजन उसे इमरजेंसी ले जाने की जगह स्वरूप नगर थाने लेकर चले गए। वहां जूनियर डाक्टरों के खिलाफ तहरीर दी है। महिला का मेडिकल कराने के लिए स्वजन उर्सला अस्पताल ले गए हैं। मेडिकल कालेज की उप प्राचार्य एवं मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो. रिचा गिरि का कहना है कि जानकारी हुई है। कंसल्टेंट से रिपोर्ट मांगी है। उसके आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Shaswat Gupta