कानपुर, [नरेश पांडेय]। बिकरू ही क्या, पूरा देश कैसे भूल सकता है दो जुलाई, 2020 की वह भयानक काली रात। जब बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे के घर दबिश देने पहुंची पुलिस टीम पर हमला हुआ था और गोलियों की तड़-तड़ाहट सुनाई दी थी। विकास और उसके गुर्गों ने तत्कालीन सीओ बिल्हौर समेत आठ पुलिसकर्मियों को गोलियों से भून दिया था। बिकरू हत्याकांड को अब दो वर्ष हो चुके हैं। कभी विकास दुबे के खौफ के साये में रहने वाला बिकरू गांव उसके खात्मे के बाद बदल गया है। लोकतंत्र का सवेरा है, जो कभी विकास दुबे की कोठी में कैद रहता था। अब गांव के पंचायत भवन में सरकार की योजनाओं के लिए बैठक होती है। लोग खुलकर बोलते भी हैं।

पंचायत की राजनीति में था पूरा दखल : हत्या से लेकर वसूली और जमीन कब्जाने जैसे मामलों में विकास दुबे के खिलाफ लंबी सूची रही है मगर, अपराध के साथ ही राजनीति में भी वह खासा दखल रखता था। पंचायत चुनाव अपने इशारे पर कराता था। 25 साल तक पंचायत चुनाव सिर्फ नाम के ही हुए। विकास के फरमान के आगे कोई चुनाव मैदान में उतरने की हिम्मत तो दूर, नामांकन का पर्चा भी नहीं खरीदता था। निर्विरोध ही प्रधान चुना जाता रहा। वर्ष 2000 से 2020 तक विकास दुबे का भाई अविनाश फिर, उसके बाद छोटे भाई दीपू की पत्नी अंजली निर्विरोध प्रधान बनी। यही स्थिति क्षेत्र पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में होती रही। पड़ोस की भीठी ग्राम पंचायत में भी विकास का दाहिना हाथ कहा जाने वाला जिलेदार सिंह लगातार निर्विरोध प्रधान बनता रहा।

यह भी पढ़ें :- ...तो क्या अभी जिंदा है विकास दुबे, दो साल बाद सामने आई एक चौंकाने वाली हकीकत

बिकरू में चमका लोकतंत्र : बिकरू कांड और विकास दुबे के अंत के बाद यह सब मिथक टूट गए। 16 अप्रैल, 2021 को पंचायत चुनाव में गांव के बिकरू की आरक्षित सीट पर आठ प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरे। मधु कमल ने चुनाव जीता। एमए पास मधु कमल गांव के पंचायत भवन में बैठ कर गांव वालों को विकास की मुख्य धारा में लाने का प्रयास कर रही हैं। वह कहती हैं कि अब गांव में किसी का डर नहीं है। लोग अपनी मर्जी से फैसले ले रहे हैं।

एक नजर में पूरा घटनाक्रम

2 जुलाई, 2020 की रात बिकरू कांड हुआ।

80 मुकदमे अब तक दर्ज।

50 आरोपित चिह्नित किए गए थे।

06 आरोपित मुठभेड़ में मारे गए।

44 आरोपित जेल में।

05 आरोपितों पर रासुका की कार्रवाई।

30 संबंधित लोगों के शस्त्र लाइसेंस रद।

Edited By: Abhishek Agnihotri