जागरण संवाददाता, कानपुर : शहर में ऑटो चालकों से होमगार्ड द्वारा वसूली किए जाने का एक वीडियो बुधवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं। दैनिक जागरण वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

शहर में पुलिस कमिश्नरेट प्रणाली लागू किए जाने के बाद अफसरों ने बिगड़ैल यातायात को सुधारने की दिशा में काम शुरू किए थे। हाईवे पर बाहर की नंबर वाली गाड़ियों से वसूली की शिकायतें मिलने पर छह से अधिक स्थानों को चिह्नित किया गया था। पांच सदस्यीय गोपनीय टीम भी बनाई थी। इधर बुधवार को होमगार्ड का वसूली करते वीडियो वायरल हो गया। ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों के मुताबिक होमगार्ड आटो में पीछे बैठकर रुपये गिनते नजर आ रहा है। उसके बगल में एक अन्य युवक भी बैठा है। ड्राइवर सीट के पास खड़ा युवक भी नोट गिनकर होमगार्ड को देता नजर आ रहा है। एडीसीपी ट्रैफिक मामले की जांच कर रहे हैं।

क्रेन नंबर तीन में तैनात है कि होमगार्ड

ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों के मुताबिक वीडियो में जिस होमगार्ड को बताया जा रहा है वह क्रेन नंबर तीन में तैनात है। वीडियो में दिख रहा है कि आटो में बैठकर वसूली करने के बाद होमगार्ड चौराहे के पास खड़ी एंबुलेंस के पास भी पहुंचा। यहां उसका नाम पूछा गया तो अकड़कर बोला कि तुम क्या मेरे अधिकारी हो जो नाम बताऊं। इसके बाद क्रेन में तैनात सिपाही और कांस्टेबल पसीना पोछते नजर आए हैं।

-----------

वीडियो वायरल होने पर मामले की जानकारी हुई है। एडीसीपी ट्रैफिक निखिल पाठक को मामले की जांच सौंपी गई है। फिलहाल होमगार्ड कमांडेंट को मामले की जानकारी दी है।

- बीबीजीटीएस मूर्ति, डीसीपी ट्रैफिक

Edited By: Jagran