मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

उन्नाव, जेएनएन। माखी दुष्कर्म कांड में पीडि़ता और उसके घायल वकील के परिवार के साथ पैरवी करने वाले वकीलों को सीआरपीएफ की सुरक्षा देने के बाद अब सीबीआई के 18 गवाहों को भी रात-ओ-रात सुरक्षा दे दी गई। शुक्रवार को शासन से आदेश मिलते ही रात में ही पुलिस उच्चाधिकारियों ने गवाहों की सूची और गनरों की व्यवस्था रात में ही कर दी।

माखी दुष्कर्म कांड में सीबीआई ने 18 स्वतंत्र गवाह बनाए हैं। अभी तक गवाहों की सुरक्षा को लेकर कोई पहल नहीं की गई थी लेकिन रायबरेली में सड़क हादसे के बाद सर्वोच्च न्यायालय के कड़े रुख पर दुष्कर्म पीडि़ता और उसके परिवार की सुरक्षा में सीआरपीएफ लगाई गई है। पीडि़ता के तीनों वकीलों को भी यह सुरक्षा मिली है। सीबीआई ने जिन 18 लोगों को गवाह बनाया है, उनकी सुरक्षा के लिए गनर दिए जाएं। इस आशय का आदेश शुक्रवार देर शाम रात एसपी को मिला तो उन्होंने गवाहों की सूची लेकर तत्काल गनर का प्रबंध किया। एसपी एमपी वर्मा ने बताया कि 18 गवाहों को गनर दिए गए हैं, जिनकी रात में ही तैनाती के आदेश दिए हैं।

माना जा रहा है कि दुष्कर्म पीडि़ता के पिता का इलाज करने तथा पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर भी मुख्य गवाह हैं, ऐसे मेें उन्हें भी सुरक्षा मुहैया कराई जा सकती है। शासन के निर्देश पर गुरुवार को अंडर सीएमओ और जिला अस्पताल के डॉक्टरों की सूची और एलआइयू जांच करा रिपोर्ट भेजी गई है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि शनिवार तक डॉक्टरों की भी सुरक्षा तय की जा सकती है। आईजी एसके भगत के मुताबिक 18 गवाहों की सूची मिली थी, जिन्हें गनर देने के लिए एसपी को निर्देश दिया है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप