कानपुर, जागरण संवाददाता। ड्योढ़ीघाट पर मंगलवार को नौबस्ता निवासी एसएससी की तैयारी कर रहा 23 वर्षीय छात्र रामजी अवस्थी गंगा नहाने के दौरान फिसल गया और गहराई में जाकर डूबने लगा। रामजी को डूबता देख घाट पर मौजूद सिंहपुर बिठूर निवासी 20 वर्षीय संदीप निषाद ने भी गंगा में छलांग लगा दी, लेकिन वह भी गहराई में जाकर डूबने लगा। तभी मंदिर परिसर में मौजूद सुबंशीखेड़ा निवासी इंटर के छात्र 18 वर्षीय शिवम ने गंगा में छलांग लगा दी। इसके बाद बारी-बारी से शिवम ने दोनों को गहराई से बाहर निकाला। 

इस दौरान रामजी अवस्थी अचेत होकर डूबने लगा था, लेकिन शिवम ने अन्य तैराकों की मदद से उसे पानी के अंदर से निकालकर किनारे पर पहुंचाया। गंभीर हालत में रामजी को रूमा स्थित निजी अस्पताल ले जाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद रामजी की हालत ठीक हो गई। स्थानीय लोगों व दुकानदारों ने आरोप लगाया कि घाट पर पीएसी की एक कंपनी बराबर रहती है, लेकिन घटना के दौरान पीएसी जवानों ने कोई सहयोग नहीं किया। जब लोगों ने स्टीमर से मदद करने को कहा तो जवानों ने ईंधन न होने की बात कहकर टरका दिया। लोगों ने कहा कि पीएसी के जवानों के असंवेदनशील रवैये की शिकायत उच्चाधिकारियों से की जाएगी।

Edited By: Abhishek Verma