औरैया, जागरण संवाददाता। बहुचर्चित दोहरे हत्याकांड मामले में सपा एमएलसी सहित 11 आरोपित मंगलवार को कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायालय में पेश किए गए। एमपीएमएलए कोर्ट में चल रहे विचारण (ट्रायल) के दौरान वादी की गवाही पूरी हो गई। अगली सुनवाई की तिथि 14 दिसंबर नियत की गई है। दूसरे गवाह घटना के चश्मदीद साक्षी दिवंगत अधिवक्ता के भाई को तलब किया गया है।

शहर के मोहल्ला नरायनपुर स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर परिसर में 15 मार्च 2020 को अधिवक्ता मंजुल चौबे व उसकी चचेरी बहन सुधा की हत्या हुई थी। इस दोहरे हत्याकांड में पुलिस ने सपा एमएलसी कमलेश पाठक, उनके भाई संतोष व रामू पाठक, गनर, चालक व सगे संबंधी सहित 11 लोगों को आरोपित बनाकर अलग-अलग जेलों में भेजा गया था। उच्च न्यायालय के निर्देश पर शीघ्र विचारण की कार्रवाई अमल में लाई गई। प्रत्येक मंगलवार को मामले की सुनवाई की जा रही है। आगरा, इटावा, फिरोजाबाद, उरई जेल से आरोपितों को एमपी-एमएलए कोर्ट रजत सिन्हा के समक्ष पेश कर गवाही कराई जा रही है। पिछली कई तारीखों से चल रही वादी आशीष चौबे की गवाही व जिरह मंगलवार को पूरी हो गई। अगली सुनवाई की तिथि 14 दिसंबर तय की गई। इसमें मुकदमे के दूसरे चश्मदीद गवाह संजय चौबे को तलब किया गया है। अभियोजन की ओर से सरकारी वकील व बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्यवाही में हिस्सा लिया। 

Edited By: Shaswat Gupta