जागरण संवाददाता, कानपुर : रुक-रुककर हो रही बारिश से हो रहा जलभराव शहरवासियों के लिए परेशानी बन गया है। विजयनगर, 80 फीट रोड, पीरोड के बाद अब कचहरी रोड पर सड़क धंसने से रास्ता खतरनाक हो गया है। वहीं फूलबाग के पास पेड़ गिरने से भी रविवार को रास्ता बंद रहा। इस कारण लोगों को चक्कर लगाकर गंतव्य को जाना पड़ा। नाली और गलीपिट साफ न होना भी परेशानी बनी।

कचहरी रोड में रविवार को तीन मीटर से ज्यादा सड़क धंस गई। आसपास के लोगों ने गड्ढे के चारों तरफ ईट रख दीं। घंटाघर के पास भी पेड़ गिरने से रास्ता बाधित हो गया। इसके अलावा रावतपुर, गुमटी नंबर पांच जीटी रोड, आचार्य नगर, रामबाग, आनंद बाग समेत कई जगह गलीपीट और नाली बंद होने के कारण जलभराव हुआ। वहीं मैनावती मार्ग से सिंहपुर, फजलगंज, सर्वोदय नगर से काकादेव, विकास नगर समेत कई जगह खोदी सड़कें बरसात में लोगों के लिए मुसीबत बनीं। जलकुंभी से बंद हुआ बैराज प्लांट, पानी को तरसेगी दस लाख आबादी

जागरण संवाददाता, कानपुर : जलकुंभी की वजह से रविवार दोपहर बैराज प्लांट एक बार फिर बंद हो गया। इस वजह से दस लाख आबादी को पानी पीने के लिए जूझना पड़ा। वहीं लोअर गंगा कैनाल में बिजली फाल्ट के चलते शाम को जलापूर्ति प्रभावित हुई। इस वजह से कई इलाकों में लो प्रेशर से पानी पहुंचा।

विजय नगर में लीकेज ठीक होने के बाद शनिवार को छह दिन बाद प्लांट चालू हुआ था। रविवार को बैराज के पास जलकुंभी फंसने से एक बार फिर प्लांट बंद कर दिया गया। इस प्लांट से छह करोड़ लीटर जलापूर्ति होती है इससे करीब दस लाख जनता को पीने का पानी मिलता है। दोपहर में जलकुंभी आने के कारण बैराज को पानी मिलना बंद हो गया। टंकी तक कुछ पानी पहुंच जाने के कारण शाम को लो प्रेशर से जलापूर्ति हुई। वहीं लोअर गंगा कैनाल से शाम को जलापूर्ति जलकल के माध्यम से हो जाने के कारण दिक्कत नहीं आई। बिजली फाल्ट ठीक किया जा रहा है अगर सुबह तक नहीं ठीक हुआ तो सोमवार को जलापूर्ति का संकट रहेगा।

Edited By: Jagran