जागरण संवाददाता, कानपुर : कोरोना की दूसरी लहर के बाद एक बार फिर से उद्योग रफ्तार पकड़ने लगे हैं। वहीं, पुराने के बीच अब नए उद्योग स्थापित करने के लिए भी सरकार युवाओं को ऋण मुहैया करा रही है। इसी कड़ी में बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आनलाइन स्वरोजगार संगम का शुभारंभ किया। शहर में कलेक्ट्रेट में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान नए उद्योग लगाने के लिए युवाओं को 42 लाख 70 हजार का ऋण दिया गया। रोजगार परक योजनाओं व प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) व वित्त पोषण योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को ऋण मिला तो उनके चेहरे खिल उठे। इसके अलावा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत भी कुछ लाभार्थियों को टूलकिट तोहफा दिया गया। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में अंकित सिंह सेंगर को 15 लाख का ऋण दिया गया। इस ऋण से वह कृषि कार्य उन्नयन के लिए मशीनरी उद्योग लगाएंगे। मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत पावर कैटरिग सर्विस शुरू करने के लिए कुलविदर सिंह को 10 लाख का ऋण प्रदान किया गया। ओडीओपी योजना के तहत गारमेंट उद्योग शुरू करने के लिए चंदन सिंह गोस्वामी को 17 लाख का ऋण दिया गया। इसके अलावा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना कार्यक्रम के तहत अर्चना सचान को टेलरिग कार्य के लिए 30 हजार का ऋण, टूल किट व प्रशिक्षण प्रमाण पत्र दिया गया। हलवाई के लिए मोहित गौतम को 40 हजार लाख का ऋण, प्रशिक्षण प्रमाण पत्र व टूल किट दिया गया। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री नीलिमा कटियार, विधायक भगवती प्रसार सागर, डीएम आलोक तिवारी, सीडीओ डा. महेंद्र कुमार, जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केंद्र के उपायुक्त एसपी यादव व अग्रणी बैंक प्रबंधक एके वर्मा ने उन्हें ऋण प्रदान किया।

Edited By: Jagran