कानपुर, जेएनएन। तहसीलदार साहब! आरक्षित जमीन पर दबंग का कब्जा नहीं हटवा पा रहे हैं। क्यों न सबसे पहले आप पर ही कार्रवाई की जाए?, तहसील में तमाशा बना रखा है। बिना कार्रवाई सुधरेंगे नहीं क्या?। यह सवाल और कार्रवाई की धमकी डीएम विजय विश्वास पंत ने तहसीलदार नर्वल को दी। तहसीलदार ने कहा सर जानकारी नहीं है। नाराज डीएम ने पूछा तो क्या आकाशवाणी करवाऊं या मुनादी। यह वाक्या नर्वल में आयोजित तहसील दिवस का है। यहां लोगों ने हाईकोर्ट का आदेश दिखाकर डीएम से कब्जा न हटाने की शिकायत की थी।

कोर्ट ने अवैध कब्जेदार की बेदखली का दिया था आदेश

नर्वल तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस पर डीएम विजय विश्वास पंत व एसएसपी अनन्त देव तिवारी ने फरियादियों की समस्याएं सुनीं। भीतरगांव ब्लाक के कुडऩी गांव निवासी राजू, सत्यनारायण व राम सजीवन ने डीएम को बताया कि गांव के पूर्व प्रधान ने आरक्षित जमीन पर कब्जा कर रखा है। कोर्ट ने अवैध कब्जेदार की बेदखली का आदेश भी कर दिया है लेकिन तहसील से हीलाहवाली की जा रही है। डीएम ने जब तहसीलदार से पूछा तो उन्होंने जानकारी से इन्कार कर दिया।

इस बात डीएम नाराज हो गए और बोले, जानकारी के लिए क्या आकाशवाणी या मुनादी करानी पड़ेगी। सुधार जाओ नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार रहना। वहीं साढ़ गोपालपुर निवासी जरीना ने बताया कि अंत्योदय कार्ड निरस्त कर दिया गया है। चार माह से राशन नहीं मिला है। जिस पर डीएम ने डीएसओ अखिलेश श्रीवास्तव को जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए। इस दौरान फुफुवार राजथोक के हरिशंकर, भीतरगांव तेलियाबर के नीरज, श्याम सुंदर, संतलाल, छोटे लाल आदि ने भी अपनी समस्याएं रखीं। इस दौरान एसडीएम नर्वल रिजवाना शाहिद, सीएमओ अशोक शुक्ला, डीसी मनरेगा एके ङ्क्षसह, बीएसए प्रवीण मणि त्रिपाठी उपस्थित रहे। 

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप