जागरण संवाददाता, कानपुर: सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर रविवार की दोपहर बाद यात्रियों और टीसी के बीच झगड़े ने बड़ा रूप ले लिया। राप्ती सागर एक्सप्रेस में टिकट चेक करते समय लोको पायलट की गलत बयानबाजी के बाद यात्रियों ने टीसी स्टॉफ को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। यात्रियों ने एक टीसी को कोच में डाल लिया। सूचना के बाद आनन फानन गाड़ी रुकवाई गई। जीआरपी और आरपीएफ को आता देख घटना में शामिल यात्री भाग खड़े हुए।

राप्ती सागर एक्सप्रेस 3.58 मिनट पर सेंट्रल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर सात पर आकर रुकी। टीसी पंकज वर्मा और आलोक कुमार ने इंजन से ठीक पीछे जनरल कोच में टिकट चेक करना शुरू कर दिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक टिकट की वैधता को लेकर चार पांच युवाओं के एक वर्ग से दोनों की नोकझोक शुरू हो गई। टीसी पक्ष का कहना है कि उनके पास टिकट नहीं था जबकि यात्रियों ने टीसी पर अवैध वसूली का आरोप लगाया।

नोकझोंक शुरू हुई तो दूसरे टीसी भी मौके पर आ पहुंचे। इसी बीच राप्ती सागर एक्सप्रेस के लोको पायलट हसीम वहां पहुंचे और उन्होंने टीसी को फर्जी बता डाला। यह सुनते ही पब्लिक भड़क गई। उन्होंने टीसी स्टॉफ पर हमला बोल दिया। यह देखकर टीसी भाग खड़े हुए। पवन वर्मा भीड़ के हाथ लग गए। इसी बीच ट्रेन ने ग्रीन सिग्नल दे दिया और गाड़ी आगे बढ़ चली। यात्रियों ने टीसी पवन को भी कोच में डाल लिया। इधर मौके से भागे टीसी स्टॉफ ने आनन फानन रेलवे कंट्रोल रूम को घटना की जानकारी दी। तत्काल गाड़ी रुकवाई गई। आरपीएफ व जीआरपी तत्काल मौके की ओर भागी। खाकी देख सभी हमलावर यात्री गाड़ी से उतरकर भाग खड़े हुए। सूचना पर स्टेशन अधीक्षक आरएनपी त्रिवेदी, मुख्य टिकट निरीक्षक दिवाकर तिवारी मौके पर पहुंचे। बाद में रेलवे स्टेशन प्रशासन द्वारा लोको पायलट व अज्ञात यात्रियों के खिलाफ जीआरपी में मुकदमा दर्ज कराया गया है। जीआरपी प्रभारी राममोहन राय ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से जांच शुरू की गई है। वहीं लोको पायलट की शिकायत एनसीआर मुख्यालय तक की गई है।

----------

सिकंदराबाद में ऐसी ही घटना में जा चुकी है टीसी की जान

सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर हुई घटना से रेलवे प्रशासन एक बारगी सहम उठा। एक सप्ताह पहले ऐसी एक घटना सिकंदराबाद में हुई थी, जिसमें गुस्साए यात्रियों ने टीसी की हत्या कर उसका शव बीच रास्ते में फेंक दिया था। अगर गाड़ी नहीं रोक ली जाती तो घटना दोहराई जा सकती थी।

Posted By: Jagran