कानपुर, जेएनएन। पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छ गंगा का संदेश देने के लिए शहर के दो तैराक अटल घाट से जाजमऊ स्थित सिद्धनाथ घाट तक तैराकी करेंगे। आठ अगस्त को सुबह तैराक पंकज व रोहित अटलघाट से हाथ-पैर बांधकर अपने अभियान की शुरुआत करेंगे। उनकी इस साहसिक तैराकी को गिनीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड के लिए भी भेजा जाएगा। हाल में अटल घाट से सरसैया घाट गंगा में हाथ-पैर बांधकर साहसिक तैराकी करने वाले मास्टर तैराक पंकज जैन और राष्ट्रीय तैराक रोहित ने पहचान हासिल की थी। अब दोनों तैराक साहसिक तैराकी के जरिए गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज कराना चाहते हैं। वे अटल घाट से जाजमऊ के सिद्धनाथ घाट तक लगभग 17 किमी तैराकी कर लोगों को स्वच्छ गंगा और पर्यावरण संरक्षण का संदेश देंगे।

उप्र तैराकी संघ के उपाध्यक्ष प्रकाश अवस्थी ने बताया कि खेलप्रेमी व समाजसेवी स्वर्गीय पदम कुमार जैन की स्मृति में साहसिक तैराकी उनके पुत्र पंकज जैन और राष्ट्रीय तैराक रोहित करेंगे। हाल में पंकज और रोहित ने सात किमी की तैराकी कर समाज को बेटियों की शिक्षित करने और उन्हेंं खेल से जुडऩे का संदेश दिया था। अब 17 किमी की तैराकी कर पंकज और रोहित स्वच्छ गंगा और पर्यावरण संरक्षण का संदेश देंगे। इसके लिए पंकज व रोहित गंगा में कड़ा अभ्यास कर रहे हैं। 

Edited By: Akash Dwivedi