कानपुर (जेएनएन)। बांदा में टाइल्स व्यवसायी के अपहरण में अपहर्ताओं और पुलिस के बीच मुठभेड़ हो गई। गोली लगने से स्वाट टीम प्रभारी एसआइ व एक शातिर बदमाश भी घायल हुआ है। पुलिस घायल व चार अन्य बदमाशों को पकडऩे और टाइल्स व्यवसायी की बरामदगी का दावा कर रही है। वहीं घायल बदमाश ने व्यवसायी को छोडऩे के एवज में 21 लाख रुपये की फिरौती मांगने की स्वीकारोक्ति की है। डीआइजी ने घटनास्थल पर पड़ताल की और घायल पुलिस अफसर का हालचाल लिया है।

अतर्रा कस्बा निवासी टायल्स व्यवसायी प्रदीप सिंह उर्फ नीलू सिंह का 21 सितंबर की रात शहर स्थित शोरूम से असलहाधारी बदमाशों ने अपहरण कर लिया था। घटना के बाद से पुलिस की कई टीमें अपहृत व्यवसायी व बदमाशों की तलाश में जुटी थी। रविवार सुबह कालिंजर थाना क्षेत्र के सतना रोड पर पुलिस टीम को बदमाशों के फिरौती की रकम लेने आने की सूचना मिली थी।

स्वाट टीम प्रभारी एसआइ संतोष सिंह व टीम में शामिल निरीक्षक केपी सिंह, आनंद सिंह व उपेंद्र सिंह ने फोर्स के साथ तय स्थान पर घेराबंदी की। पुलिस फोर्स को देखकर बदमाशों ने फायरिंग की। बाएं हाथ में गोली लगने से स्वाट टीम प्रभारी घायल हो गए। जवाब में पुलिस टीम ने फायरिंग की, जिसमें शातिर बदमाश राजेंद्र सिंह (39) निवासी ग्राम सिनार बीकानेर अलमोड़ा उतराखंड घायल हो गया। पुलिस टीम ने घायल एसआइ व बदमाश को जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

घायल अपहर्ता ने बताया कि व्यवसायी को छोडऩे के एवज 21 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई थी। वह और उसके साथी फिरौती की रकम लेने पहुंचे थे और पुलिस ने घेर लिया। सीओ सिटी राघवेंद्र सिंह ने बताया कि मुठभेड़ में चार अन्य बदमाश भी दबोचे गए हैं। प्रकरण की आला अधिकारी जांच कर रहे हैं। डीआइजी मनोज तिवारी व एसपी एस. आनंद ने अस्पताल जाकर घायलों की स्थिति देखी और घटनास्थल का भी मौका मुआयना किया है। पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ के चलते पकड़े गए बदमाशों की पहचान अभी उजागर नहीं की है।

Posted By: Abhishek