जागरण संवाददाता, कानपुर : छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय से संबद्ध लाखों छात्र-छात्राओं को अब एक विषय के सभी पेपरों में बैकपेपर देने का मौका मिलेगा। कुलपति प्रोफेसर नीलिमा गुप्ता ने यह फैसला मंगलवार को किया। हालांकि उन्होंने कहा कि इस फैसले को पहले परीक्षा समिति की बैठक और फिर एकेडमिक काउंसिल की बैठक में सभी सदस्यों के समक्ष रखा जाएगा और अंतिम मुहर लगते ही इसका क्रियान्वयन करा दिया जाएगा। दरअसल अभी तक विश्वविद्यालय व उससे संबद्ध महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को एक विषय के एक ही पेपर में बैकपेपर देने का मौका दिए जाने का प्रावधान था। अब कुलपति ने अन्य विंश्वविद्यालयों में लागू व्यवस्था के तहत उक्त निर्णय लेते हुए एक विषय के सभी पेपरों में बैकपेपर देने की अनुमति दे दी। इसके अलावा बीएससी प्रथम व द्वितीय वर्ष में छात्र-छात्राओं को दी जाने वाली ग्रेडिंग की व्यवस्था को समाप्त करने के लिए भी कवायद शुरू कर दी। उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था के संबंध में बीते दिनों सूबे के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कई निर्देश दिए थे। उनके मुताबिक ही नियमानुसार प्रक्रिया को अपनाते हुए ग्रेडिंग की व्यवस्था को खत्म करेंगे। मंगलवार को इन्हीं मामलों पर उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने भी कुलपति से मुलाकात कर चर्चा की। संगठन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी व कोषाध्यक्ष डॉ. बृजेश भदौरिया ने कहा कि एक ही विषय के सभी पेपरों में बैकपेपर देने व ग्रेडिंग की व्यवस्था समाप्त होने से जनपद व अन्य जिलों के लाखों छात्र-छात्राएं लाभान्वित होंगे।

-----------------------

मूल्यांकन में जो शिक्षक दोषी हो उस पर कार्रवाई करें

उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन में यह कहना कि केवल स्ववित्तपोषित कॉलेजों के शिक्षकों से गलती हुई है, जो शिक्षक दोषी हो, उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। मंगलवार को यह निर्णय कानपुर विश्वविद्यालय स्ववित्तपोषित शिक्षक एसोसिएशन की बैठक में लिया गया। संगठन के अध्यक्ष डॉ. कमलेश यादव ने कहा कि फेल छात्रों के मामले पर जल्द पदाधिकारी कुलपति से मिलेंगे।

Posted By: Jagran