कानपुर, जेएनएन। कचहरी से सिपाहियों को चकमा देकर फरार हुए 50 हजार के इनामी हत्यारोपित बंदी विक्की सोनी और उसके दो साथियों को पकडऩे के लिए पुलिस अधिकारियों ने एसटीएफ से मदद मांगी है। सोमवार को टीम ने इंदौर में आरोपितों के ठिकाने पर दबिश देकर तीन दोस्तों से पूछताछ की और फिर मुंबई रवाना हो गई। सूत्रों ने बताया कि आरोपित चार दिन तक इंदौर में ही रुके थे। 

तीन अक्टूबर को विक्की सोनी कोर्ट में पेशी के बाद अपने भाइयों व साथियों की मदद से सिपाहियों को चकमा देकर फरार हो गया था। लापरवाही पर सिपाही सतेंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इसके बाद टीम ने विक्की के दो भाइयों व दो साथियों को फरार कराने में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। चार दिन पूर्व पुलिस को विक्की की आखिरी लोकेशन भोपाल होते हुए इंदौर के आसपास मिली थी। तब पुलिस टीम रवाना की गई थी। रविवार को अधिकारियों ने विक्की को पकडऩे के लिए एसटीएफ को भी लगा दिया। एक टीम सोमवार सुबह इंदौर पहुंच गई और वहां विक्की के तीन दोस्तों से बात की। उन्होंने बताया, विक्की के साथ आए युवक से उनकी दोस्ती है और रविवार को ही वे तीनों इंदौर से मुंबई निकले हैं। इस पर टीम मुंबई रवाना हो गई। एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि विक्की के साथ मौजूद युवकों के मुंबई में कनेक्शन हैं। विक्की उनकी मदद से पुलिस से बचने का ठिकाना तलाश रहा है। 

इनका ये है कहना

विक्की की लोकेशन के बारे में कुछ अहम जानकारी मिली है। पुलिस के साथ ही एसटीएफ की भी मदद ली जा रही है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाया जाएगा। 

-राजकुमार अग्र्रवाल, एसपी पूर्वी 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस