कानपुर, जेएनएन। परिवार को चलाने के साथ ही अब महिलाएं जल संरक्षण की मुहिम में भी आगे आ रही हैं। महिलाओं ने इसकी शुरुआत अपनी रसोई से की है। यहां लगे वाटर फ्यूरी फायर सिस्टम से रोज शुद्ध पानी के साथ ही दोगुना पानी बेकार होकर नाली में बह जाता था। अब इस पानी को बचाकर उन्होंने पौधों की सिंचाई, बर्तन धोने और घर की सफाई में इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इसके चलते एक घर से लगभग चालीस लीटर पानी बच रहा है।

दैनिक जागरण सहेज लो हर बूंद अभियान के तहत लोगों को पानी की बर्बादी रोकने और बारिश की बूंदों को बचाने के लिए जागरूक कर रहा है। इस मुहिम के तहत महिलाएं पानी बचाने के साथ ही अपने परिवार, रिश्तेदार और दोस्तों को भी जागरूक कर रही हैैं। अगर एक-एक घर से रोज चालीस लीटर ही पानी बचने लगा तो एक दिन में लाखों लीटर पानी नाली में जाने से बच जाएगा और दूसरे प्रयोग में पानी काम आएगा।

महिलाओं की भी सुनिए

  • पानी बचाने की मुहिम हर घर से शुरू होनी चाहिए। रोजमर्रा के कामों में ही लोग पानी बर्बाद कर देते हैं। केवल आरओ से निकलने वाले पानी को बचा लें तो घर के कई काम हो सकते है। वह कई सालों से यह कर रही है और रिश्तेदार व दोस्तों को भी बताती है। - छाया गुप्ता, स्वरूप नगर
  • बारिश की हर बूंद को बचाना होगा, नहीं तो आने वाले समय में पानी का संकट खड़ा हो जाएगा। दैनिक जागरण का अभियान बढऩे के बाद वह भी अब आरओ से बेकार निकलने वाले पानी को बचाकर दूसरे कामों में प्रयोग कर रही हैैं। इससे काफी पानी बच जाता है। - प्रीति टंडन, सिविल लाइंस
  • पानी की बर्बादी करने वालों पर कार्रवाई की जाए। इसके अलावा बड़ी इमारतों और सरकारी दफ्तर व आवासों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाया जाए। अगर घर में ही लोग सजग हो जाए तो काफी लीटर पानी बर्बाद होने से बच सकता है। - संध्या बाजपेयी, छावनी
  • मेरे घर में आरओ के बेकार पानी को बाल्टी में भरकर उससे पौधों की सिंचाई और घर साफ करने में प्रयोग किया जाता है। रोज बीस-बीस लीटर की दो बाल्टी आरओ से बच जाता है। इसके अलावा पानी को कम से कम खर्च करने का प्रयास किया जाता है। - अंजलि श्रीवास्तव. विकास नगर

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021