कानपुर, जेएनएन। गोविंदनगर विधानसभा सीट भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी के इस्तीफे से खाली हुई है। इसलिए भाजपा इस उपचुनाव में यह सीट हर हाल में जीतना चाहती है। भाजपा की मदद के लिए संघ भी अपनी व्यूह रचना कर रहा है, लेकिन यह स्थिति आम चुनावों से काफी अलग होगी। उपचुनाव में पदाधिकारियों को सीधे तौर पर जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी। बल्कि स्वयंसेवकों के स्तर पर ही एक सकारात्मक माहौल बनाया जाएगा।

आमतौर पर चुनाव के दौरान भाजपा की मदद के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपनी अलग टीम उतारता है। यह टीम अपने स्तर पर काम करती है और मतदाताओं को भाजपा के लिए वोटिंग करने की प्रेरणा देती है। किंतु उपचुनाव के लिए संघ की रणनीति दूसरी है। उपचुनाव में संघ बहुत ज्यादा हस्तक्षेप करने की तैयारी में नहीं है। संघ के पदाधिकारियों का मानना है कि पार्टी मजबूत स्थिति में है, उसके पास अच्छा संगठन है। इसलिए वृहद स्तर पर योजना तैयार कर काम करने की संघ को जरूरत नहीं है।

हालांकि संघ के कार्यकर्ता मौखिक चर्चाओं के जरिए विश्वस्तर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि और जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने जैसे महत्वपूर्ण फैसलों का प्रसार करेंगे। संघ के प्रांत प्रचार प्रमुख कहते हैं कि भाजपा राजनीतिक रूप से सक्षम दल है। इसलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ इस दौरान सामाजिक समरसता के लिए ही काम करेगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस