कानपुर, जेएनएन। गोविंद नगर के अपार्टमेंट में डकैती का पर्दाफाश करके पुलिस ने जिस बिहार और देवरिया गैंग का शामिल होना बताया है, उसका सरगना और सदस्य बेहद शातिर हैं। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यह गैंग देश भर में घूम घूमकर अलग शहरों में वारदात करते हैं। कानपुर की घटना के बाद झारखंड के एक मंत्री के रिश्तेदार के घर डकैती की वारदात की। पुलिस ने गिरोह में शामिल रहे एक किशोर सदस्य को गिरफ्तार करके पूछताछ की तो पता चला वह आर्थिक तंगी में स्कूल की फीस जमा नहीं कर सका तो गैंग में शामिल हो गया।

पुलिस की पूछताछ में किशोर आरोपित ने बताया कि देवरिया के कुकरहाटी निवासी मुन्ना यादव के बड़े भाई के साथ उसकी बहन की रिश्ता तय हुआ है। घर की आर्थिक स्थिति खराब है। स्कूल की फीस तक जमा नहीं कर सका। ऐसे में मुन्ना ने उसे चोरी और लूट की वारदात करने की सलाह दी। डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल ने बताया कि मुन्ना बिहार के सीवान के बसंतपुर निवासी शातिर अपराधी जोगिंदर गैंग का सदस्य है। जोगिंदर ने ही अपने साथ स्थानीय सुधीर महतो व एक अन्य के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया।

घटना वाले दिन से पहले रेकी के लिए जोगिंदर कानपुर आ गया था। बाकी चारों सदस्य मुन्ना के साथ बस से वाया गोरखपुर लखनऊ होते हुए कानपुर पहुंचे। वारदात के बाद किशोर, मुन्ना और एक अन्य झकरकटी बस अड्डा होकर लखनऊ से देवरिया चले गए। बाकी दो सदस्य फतेहपुर होते हुए लखनऊ और वहां से बिहार चले गए। गैंग में 20 सदस्य हैं, जो कि पूरे देश में घूम-घूमकर वारदातें करते हैं।

झारखंड में मंत्री के रिश्तेदार के घर डाली थी डकैती : डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल के मुताबिक जोगिंदर व सुधीर डकैती की ही एक वारदात में नालंदा जेल में हैं, जबकि मुन्ना एनडीपीएस में देवरिया जेल में है। मुन्ना द्वारा खेल करके जेल जाने की बात सामने आई है। वहीं सामने यह भी आया है कि गैंग ने बिहार के नालंदा स्थित हरनौत थानाक्षेत्र में जुलाई 2021 और झारखंड में 4 सितंबर 2021 को एक मंत्री के रिश्तेदार के घर डाका डाला था। मुन्ना पर देवरिया में लूट, डकैती और वाहन चोरी के दर्जन भर से ज्यादा मुकदमे और जोङ्क्षगदर के खिलाफ दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें :- नाबालिग को गिरफ्तार कर 37 दिन बाद डकैती का पर्दाफाश, सामने आया बिहार और देवरिया के गैंग का नाम

यह सवाल अब तक अनुत्तरित : डीसीपी ने बताया कि जोगिंदर से पूछताछ के बाद ही सामने आएगा कि आखिर वृद्धा के ही घर उसने डाका क्यों डाला। मुखबिर कौन था। अपार्टमेंट में काम करने वाली एक बिहार निवासी नौकरानी पर शक है, लेकिन उसके बारे में कोई साक्ष्य पुलिस को नहीं मिले हैं। लूटपाट में कितना सामान मिला और पांचवां साथ कौन है।

Edited By: Abhishek Agnihotri