जागरण संवाददाता, कानपुर : गुरुवार देर रात में चली तेज हवाओं और शुक्रवार की सुबह हुई बारिश ने शहर के वायु प्रदूषण को धो दिया। वातावरण में हानिकारक गैसों का स्तर बेहद कम हो गया है। मौजूदा सीजन में पहली बार वायु गुणवत्ता सूचकांक इतने निचले स्तर पर पहुंच सका है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक कानपुर प्रदूषित शहरों की सूची में पहले स्थान से खिसक कर 26वें नंबर पर आ गया। पर्टिकुलेट मैटर (पीएम 2.5), नाइट्रोजन डाईऑक्साइड (एनओटू), सल्फर डाईऑक्साइड (एसओटू), ओजोन समेत अन्य गैसों का घनत्व कम हो गया है। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक सुबह के समय तीन मिली मीटर बारिश रिकार्ड की गई। हवा की गति पांच किलोमीटर प्रतिघंटे रही।

आइआइटी के सिविल इंजीनियरिग विभाग के प्रो. मुकेश शर्मा ने बताया कि बारिश और हवा चलने से करीब तीन दिन तक वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहतर रहेगा। सड़क के किनारे उड़ने वाली धूल बैठ गई है। पेड़ और पौधों में लगी गर्द साफ हो चुकी है। हवा में मौजूद छोटे कण वर्षा की बूंदों के साथ मिल गए हैं।

-------------------------

दूषित गैसों का स्तर

गैस मात्रा मानक

पीएम 2.5 154 60

एनओटू 61 80

एसओटू 14 80

-------------------------

देश में अत्याधिक प्रदूषित शहर

शहर एक्यूआइ

पटना 377

वाराणसी 366

मुजफ्फरपुर 365

मंडीदीप 288

हावड़ा 266

कटनी 265

तलचर 253

सिंहरौली 247

आसनसोल 244

अंकलेशवर 232

(मात्रा माइक्रोग्राम पर क्यूबिक मीटर है।)

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस