जागरण संवाददाता, कानपुर दक्षिण :

'जेई बेटे और परिवार की सलामती चाहती हो तो 15 दिन के भीतर सात लाख का इंतजाम कर लेना। नहीं तो बेटे को जान से मार देंगे। अगली चिट्ठी का इंतजार करना। नहीं तो इसका अंजाम भुगतने को भी तैयार रहना..।' प्रदेश में भाजपा विधायकों और कई प्रतिष्ठित लोगों को धमकी भरी मैसेज की घटनाओं के बीच शहर के किदवई नगर में एक जेई के घर इंडियन मुजाहिदीन के नाम पर इस तरह का धमकी भरा पत्र मिलने के बाद पुलिस-प्रशासन सर्तक हो गया है। जम्मू कटरा में तैनात रेलवे के जेई रसिक वाजपेयी की मां ने घर के बरामदे में मिले पत्र के आधार पर किदवईनगर थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

ई-ब्लाक किदवई नगर निवासी गीता वाजपेयी को सोमवार देर शाम घर के बरामदे में बंद लिफाफा पड़ा मिला। खोलकर पढ़ा तो होश उड़ गए। उन्होंने बेटे से संपर्क करके खैरियत पूछी और पत्र के बारे में जानकारी दी। धमकी भरा पत्र मिलने के बाद से पूरे परिवार में दहशत है। परिवार किसी से भी रंजिश की बात से इंकार कर रहा है। गीता देवी व अन्य परिजन ने मामले में और कुछ बोलने से मना कर दिया। गीता का कहना है कि आज बेटे के आने की उम्मीद है। बेटे के आने के बाद ही बातचीत होगी।

----------------

लिफाफा काफी पुराना, धमकी फिल्मी

एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया कि जिस लिफाफे में धमकी भरा पत्र आया है, वह काफी पुराना लग रहा है। डाकघर का स्टांप भी काफी पुराना लगा है। स्थानीय डाकघर से मामले की छानबीन कराई जा रही है।

----

'' पत्र डाक से न आने, लेटर टाइप होने और मजमून देखकर किसी की शरारत लग रही है। हालाकि धमकी में एक आतंकी संगठन का नाम जुड़ने के चलते दो टीमें बनाकर एक्सपर्ट एजेंसी की मदद से मामले पर नजर रखी जा रही है। सीसीटीवी फुटेज से पत्र फेंकने वाले के विषय में सुरागरसी की जा रही है।

अखिलेश कुमार, एसएसपी

Posted By: Jagran