कानपुर देहात, जागरण संवाददाता। संदलपुर ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय डिलवल में बच्चों के सामने सहायक शिक्षक और शिक्षामित्र मिलकर प्रधानाध्यापक से भिड़ गए। हाथापाई की नौबत आ गई। शिक्षक की तरफ से अभिभावक भी पहुंच गए और प्रधानाध्यापक पर अनुसूचित जाति के बच्चों से भेदभाव का आरोप लगाकर हंगामा करने लगे।

शिक्षक व शिक्षामित्र का आरोप है कि अनुसूचित जाति का होने से प्रधानाध्यापक उनके जूठे बर्तन साफ करने से रसोइया को रोकते हैं। वहीं, प्रधानाध्यापक का कहना है कि समय से विद्यालय आने के लिए कहने के बाद गलत आरोप लगाया जा रहा कि वह जातीय भेदभाव करते हैं। पुलिस ने मामला शांत कराया। खंड शिक्षाधिकारी ने जांच की बात कही है।

विद्यालय में सहायक शिक्षक अरविंद कुमार व शिक्षामित्र विश्वजीत तैनात हैं। गुरुवार को विद्यालय में प्रधानाध्यापक अरुण शुक्ला के साथ बहस होने लगी। शिक्षक के पक्ष से कुछ अभिभावक भी आ गए और हंगामा शुरू कर दिया। उनका कहना था कि प्रधानाचार्य अनुसूचित जाति के बच्चों से भेदभाव करते हैं और विद्यालय में कई बार शराब पीकर भी आते हैं।

प्रधानाध्यापक की सूचना पर पुलिस भी पहुंच गई। शिक्षक व शिक्षामित्र का कहना था कि वह लोग अनुसूचित जाति के हैं, इसलिए रसोइया कुसुम व अनीता से प्रधानाध्यापक ने कहा था कि उनके जूठे बर्तन न धोया करो। वहीं अभिवावक जीवदेव संखवार, रमेश संखवार व अन्य का आरोप था कि उनके बच्चों से प्रधानाध्यापक भेदभाव करते हैं। मिड-डे मील के बर्तन घर से धोकर लाने को कहते हैं।

प्रधानाध्यापक ने बताया कि सारे आरोप गलत हैं। सहायक अध्यापक और शिक्षामित्र से समय से स्कूल आने के लिए कहने पर वह आरोप लगा रहे हैं। ग्रामीणों को विद्यालय के आसपास की जमीन का इस्तेमाल करने से मना किया था, इसके चलते वह आरोप लगा रहे हैं।

थाना प्रभारी मंगलपुर अमरेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि दोनों पक्ष में पहले से विवाद चल रहा है। बयान दर्ज करने के बाद बीएसए को जानकारी दी है। किसी ने भी तहरीर नहीं दी है। खंड शिक्षाधिकारी संदलपुर चंद्रजीत सिंह ने बताया कि जांच कर दोषी के खिलाफ बीएसए को रिपोर्ट भेजी जाएगी। विद्यालय में किसी को माहौल खराब नहीं करने दिया जाएगा।

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट