कानपुर, जेएनएन। मतदान तक जितना जोर लगाना था, सभी दलों ने लगाया। अब 23 मई को होने जा रही मतगणना को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। सत्ताधारी भाजपा सिर्फ व्यवस्थाओं की तैयारी में जुटी है, जबकि विपक्षी दलों की रणनीति यह है कि मतगणना के दौरान ईवीएम और खास तौर पर वीवीपैट पर पैनी नजर रखने के लिए अनुभवी व भरोसेमंद कार्यकर्ता लगाए जाएंगे।

भारतीय जनता पार्टी उत्तर जिले की बैठक सोमवार दोपहर में नवीन मार्केट स्थित पार्टी कार्यालय में हुई। जिलाध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी ने मतगणना के संबंध में पदाधिकारियों के साथ चर्चा की। उन्होंने कहा कि 23 मई को मतगणना एजेंट सुबह पांच बजे मतगणना स्थल पहुंचेंगे। तेजतर्रार कार्यकर्ता मतगणना एजेंट के रूप में भेजे जाएंगे। एक शिविर मंडी समिति से कुछ दूरी पर लगाया जाएगा, जिसमें पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी उपस्थित रहेंगे। किसी भी समस्या के समाधान के लिए पार्टी कार्यालय में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा।

वहीं, कांग्रेस मतगणना को लेकर काफी गंभीर और सतर्क मुद्रा में है। शहर अध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री ने बताया कि हाईकमान से निर्देश मिले हैं कि एग्जिट पोल पर ध्यान न दें। यह सिर्फ भ्रमित करने के लिए है। मतगणना के दौरान वीवीपैट की गिनती पर खास नजर रखनी है। शहर अध्यक्ष ने बताया कि मंगलवार शाम पांच बजे दाम मंडी में कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई है। उसमें एजेंटों को पार्टी से मिले निर्देशों की विस्तृत जानकारी दी जाएगी।

वहीं, सपा नगर अध्यक्ष अब्दुल मुईन खां ने बताया कि गठबंधन की साझा टीम के तहत एजेंट बनाए जा रहे हैं। अनुभवी कार्यकर्ता मतगणना के दौरान नजर रखेंगे। पार्टी ने पूरी तरह सतर्क रहने के लिए कहा है। पूरी तैयारी कर ली गई है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek