कानपुर, जेएनएन। एक सिपाही की लापरवाही ने बिठूर पुलिस की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया। दरअसल थाने में सिपाही मोबाइल से खेलता रहा और पकड़ा गया बावरिया गिरोह का कुख्यात सदस्य मौका पाकर फरार हो गया। सुबह जब अधिकारियों को इस घटना की जानकारी हुई तो खलबली मच गर्ई। जो बदमाश भागा है, उसे शनिवार रात ज्वैलरी शाप में चोरी करने जा रहे गिरोह से मुठभेड़ के बाद पकड़ा गया था। पुलिस उसके जरिए पूरा गिरोह पकडऩा चाह रही थी पर उससे पहले ही शातिर उनके हाथ से निकल गया।

दूसरे सिपाही ने दौड़ाकर किया था गिरफ्तार

बिठूर थाने में तैनात एसआइ रवीन्द्र सिंह हमराही के साथ शनिवार देर रात चेकिंग कर रहे थे। बिठूर कस्बा में रेलवे क्रासिंग के पास स्थित सुरेश अग्रवाल की सत्यम ज्वैलरी शाप के नाम से दुकान है। चार पांच लोग दुकान का ताला तोडऩे की कोशिश कर रहे हैं। पुलिस को देख सभी बदमाश भागने लगे। हमराही हरमेंद्र ने एक किलोमीटर तक बदमाशों को दौड़ाया और एक बदमाश ओमपाल को पकड़ लिया। गिरोह के अन्य सदस्य भागने में कामयाब रहे थे।

पेशाब करने के बहाने आया था लॉकअप से बाहर

तब से बिठूर पुलिस पूरे गिरोह के पर्दाफाश केलिए ओमपाल से पूछताछ कर रही थी। अब तक की गई कोशिशें सिपाही अरुण पटेल की लापरवाही से बेकार चली गईं। मंगलवार देर रात तीन बजे ओमपाल ने पेशाब जाने के लिए कहा। लॉकअप में शौचालय नहीं था, इसलिए उसे बाहर लाया गया। ओमपाल पेशाब करने लगा और अरुण मोबाइल में व्यस्त हो गया। वह मोबाइल में इतना डूब गया कि बीस मिनट बाद उसे होश आया कि ओमपाल फरार हो चुका है। थानाध्यक्ष कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि सिपाही की लापरवाही सामने आई है। निलंबन की संस्तुति के साथ रिपोर्ट एसएसपी को भेजी गई है।  

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस