कानपुर, जेएनएन। राजस्थान की बाड़मेर जेल में बंद शराब माफिया चंद्रप्रकाश उर्फ चंदू जाणी हरियाणा से शराब की तस्करी कराने के लिए चोरी के ट्रकों का इस्तेमाल करता था। कई बार इन ट्रकों के चालक व क्लीनर पुलिस की चेकिंग देख ट्रक को लाखों के माल समेत छोड़कर भाग जाते थे। पिछले डेढ़ वर्ष में कानपुर व कानपुर देहात में उसके पांच ट्रक पकड़े जा चुके हैं, जिसमें से किसी के भी कागज असली नहीं मिले। यहां तक कि उन वाहनों के इंजन नंबर व चेसिस नंबर भी बदल दिए गए थे। आज पुलिस आरोपित के खिलाफ बाड़मेर जेल में बी वारंट तामील कराएगी।

दो सौ से ज्यादा गुर्गे है गैंग में शामिल 

बाड़मेर में 14 जनवरी को एटीएस से मुठभेड़ में बच कर भागे चंदू जाणी ने पुलिस के दबाव में अगले ही दिन सरेंडर कर दिया था। इसके बाद वहां की पुलिस ने उसे जेल भेजा था। चूंकि, चंदू के खिलाफ पहले से ही नजीराबाद, महाराजपुर व कानपुर देहात के डेरापुर थाने में दो मुकदने दर्ज हैं, जिनमें वह फरार चल रहा है, लिहाजा जानकारी होते ही नजीराबाद पुलिस ने कोर्ट से उसके खिलाफ बी वारंट हासिल किया और शुक्रवार को वारंट तामील कराने के लिए टीम बाड़मेर रवाना कर दी गई। एसटीएफ अधिकारियों ने बताया कि चंदू जाणी खुद को सुरक्षित करके शराब की तस्करी करता था। उसके गिरोह में दो सौ से ज्यादा गुर्गे हैं, जो शराब की तस्करी के लिए फर्जी वाहन, फर्जी कागजात तैयार कराते हैं।

वाहनों के बारे में जुटाई गई जानकारी

महाराजपुर में छह माह पूर्व जो दो ट्रक पकड़े गए थे, उनके भी कागजात फर्जी निकले थे। इसी तरह वर्ष 2019 में नजीराबाद में पकड़ा गया ट्रक के भी कागजात जाली निकले थे। इसी आधार पर मुकदमे में आबकारी एक्ट के साथ ही धोखाधड़ी व जालसाजी की धारा भी लगाई गई थी। कानपुर देहात में भी आरोपितों ने वाहनों के कागजातों में यही फर्जीवाड़ा किया था। एसटीएफ के अनुसार चंदू जाणी के बी वारंट पर आने के बाद पूछताछ में चोरी के वाहनों के बारे में भी जानकारी जुटाई जाएगी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021