जागरण संवाददाता, कानपुर : बर्रा के मर्दनपुर गांव से लापता डिलीवरी मैन 28 वर्षीय सचिन अग्निहोत्री का शव गुजैनी रेलवे ट्रैक पर मिला था। स्वजन ने बर्रा दो निवासी उसकी प्रेमिका के परिवार पर घर बुलाकर हत्या करने का आरोप लगाया था। बुधवार को हुए पोस्टमार्टम में मौत का कारण स्पष्ट न होने से बिसरा सुरक्षित किया गया है। जिसके बाद पुलिस अब हत्या और हादसे के बीच उलझी हुई है।

सचिन अमेजन कंपनी में डिलीवरी का काम करता था। वह सोमवार दोपहर तीन बजे किसी काम से बर्रा दो जाने की बात कहकर निकला था। वापस घर नहीं लौटा था। पता न लगने पर मंगलवार को स्वजन ने गुमशुदगी दर्ज कराई थी। मंगलवार देर शाम शव गुजैनी नहर पटरी के पास रेलवे ट्रैक पर पड़ा मिला था। इंटरनेट मीडिया पर फोटो वायरल होने के बाद स्वजन ने उसकी पहचान की। भाई देवराज ने बताया कि एक मकान छोड़कर बुजुर्ग दंपती रहते हैं। उनकी बर्रा-दो निवासी पौत्री से प्रेम संबंध थे। भाई को तलाशते हुए वह लोग वहां गये थे। जहां भाई की बाइक और अंगौछा मिला था। आरोप है कि प्रेमिका के स्वजन ने ही भाई की हत्या की है और हादसे का रूप देने के लिए रेलवे ट्रैक पर शव फेंका है। पोस्टमार्टम में बिसरा सुरक्षित होने से पुलिस हत्या और हादसे के बीच उलझ गई है। थाना प्रभारी बर्रा अजय कुमार सेठ ने बताया कि बुधवार को हुए पोस्टमार्टम में शव दो हिस्से में बंटा होने की जानकारी हुई है। वहीं पैर और पसलियों की हड्डियां टूटी मिली हैं। मौत का कारण स्पष्ट न होने से बिसरा सुरक्षित किया गया है। तेजाब डालने की बात निराधार है। हालांकि स्वजन ने अब तक कोई तहरीर नहीं दी है। तहरीर और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं रेलवे कर्मियों के भी बयान दर्ज किये जाएंगे। --- रुपये वापस मांगने पर धमकाया था बेटे को

कानपुर : सचिन के पड़ोसी बुजुर्ग दंपती की पौत्री से प्रेम संबंध दो साल से थे। मां कुसुम का आरोप है कि युवती बीटीसी की तैयारी कर रही थी। सचिन ने पढ़ाई के लिए दो लाख रुपये बतौर उधार दिये थे। इधर कुछ काम के चलते बेटे को रुपये वापस मांगे तो रविवार को युवती के स्वजन ने फोन पर बेटे को धमकाया था। इसके बाद सोमवार को युवती के स्वजन का फोन आया था। उसे अकेले जाने से रोका भी था, लेकिन वह नहीं माना। जहां युवती के स्वजन ने उसे घर बुलाकर हत्या कर दी।

Edited By: Jagran