जागरण संवाददाता, कानपुर : शहर के चार बड़े बीमा अस्पतालों में अब आमजन भी इलाज करा सकेंगे। केंद्र सरकार की तर्ज पर राज्य सरकार की कर्मचारी राज्य बीमा योजना (ईएसआइएस) ने इसकी तैयारी कर ली है। पहले चरण में बीमा अस्पताल पांडु नगर, किदवई नगर, सर्वोदय नगर स्थित जच्चा-बच्चा अस्पताल और आजाद नगर टीबी अस्पताल से शुरुआत होगी। यहां रियायती दर पर ओपीडी के अलावा, इमरजेंसी और भर्ती होकर इलाज कराने की सुविधा मिलेगी। ओपीडी के लिए दस रुपये में पंजीकरण होगा।

राज्य सरकार के श्रम मंत्रालय के अधीन संचालित ईएसआइएस के चार बड़े बीमा अस्पताल शहर में हैं। इनकी स्थिति दयनीय है। न तो यहां डॉक्टर हैं और न ही पैरामेडिकल स्टाफ। ओपीडी के लिए फिजीशियन और ऑपरेशन के लिए सर्जन भी नहीं हैं। ऐसे में यहां आने वाले बीमितों को रेफर कर दिया जाता है। पिछले दिनों इन अस्पतालों में संसाधन, सुविधाएं और डॉक्टरों की कमी का मामला लखनऊ में होने वाली बैठक में उठा था। इसके बाद यहां संविदा पर चिकित्सकों को तैनात करने और सुविधाएं बढ़ाने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा इन अस्पतालों में केंद्र सरकार के ईएसआइसी अस्पतालों की तर्ज पर आम लोगों का इलाज शुरू करने पर भी सहमति बनी। केंद्र सरकार की ओर से राज्य सरकार को पत्र लिखे जाने के बाद प्रमुख सचिव श्रम ने निदेशक श्रम एवं स्वास्थ्य सेवाओं को पत्र लिखकर इस निर्णय से अवगत कराया है। केंद्र सरकार के अधीन संचालित ईएसआइसी के जाजमऊ स्थित बीमा अस्पताल में पहले से ही आमजन का इलाज हो रहा है। शहर के चार बीमा अस्पतालों में बीमितों के अलावा आमजन भी इलाज करा सकेंगे। इसका प्रस्ताव बनाकर शासन से अनुमति मांगी है। अनुमति मिलते ही यह सुविधा शुरू हो जाएगी। इससे पहले अस्पतालों में संविदा पर डॉक्टरों की तैनाती के साथ सुविधाएं-संसाधन बढ़ाए जा रहे हैं।

- प्रेम प्रकाश पाल, निदेशक, श्रम एवं स्वास्थ्य सेवाएं। इसलिए लिया गया निर्णय

बीमा अस्पतालों के संचालन के लिए केंद्र सरकार का कर्मचारी राज्य बीमा निगम राज्य सरकारों को 1700 रुपये प्रति बेड के हिसाब से प्रतिदिन का खर्च देता है। इससे इतर इन अस्पतालों में बीमितों की संख्या घट रही है। तकरीबन 60 फीसद बेड खाली रहते हैं।

एक नजर

100 बेड : किदवई नगर बीमा अस्पताल

312 बेड : पांडु नगर बीमा अस्पताल (100 बेड ही चालू)

150 बेड : सर्वोदय नगर जच्चा-बच्चा अस्पताल

100 बेड : आजाद नगर टीबी अस्पताल

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस