जेएनएन, कानपुर : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक होने की सूचना मिलते ही अथर्टन मिल का निरीक्षण कर रहे पूर्व मंत्री एवं सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी का अचानक कार्यक्रम बदल गया। रेलवे स्टेशन का निरीक्षण कार्यक्रम रद कर वह तत्काल दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी का गुरवार सुबह भाजपा पदाधिकारियों के साथ अथर्टन मिल और रेलवे स्टेशन के निरीक्षण का कार्यक्रम तय था। सुबह वह भाजपा नेताओं के साथ सबसे पहले अथर्टन मिल परिसर पहुंचे। यहां टूल रूम के निरीक्षण के दौरान उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि व‌र्ल्ड बैंक का प्रोजेक्ट है, अगर इतनी बदनामी करोगे तो यूपी को कैसे प्रोजेक्ट मिलेंगे। उन्होंने कार्यरत कर्मियों से जब आईकार्ड मांगे और पूछा कि कब से काम कर रहे हो, तो सभी कर्मी अवाक रह गए। मिल परिसर में गंदगी देख भी वह नाराज हुए। उन्होंने मौजूद अफसरों से खामियों पर नाराजगी जताते हुए सुधार के निर्देश दिये। डॉ. जोशी ने आशंका जताते हुए कहा कि समय से प्रोजेक्ट पूरा नहीं हो पाएगा और अगर हो भी गया तो गुणवत्ता पर सवालिया निशान लगेगा। हालाकि उनके इस कथन पर अफसर अपनी ओर से सफाई देते रहे। मिल परिसर के निरीक्षण में कई खामियां सामने आने पर उन्होंने नाराजगी जताई। इस दौरान उन्हें जानकारी हुई कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक होने पर एम्स में भर्ती कराया गया है और वह वेंटिलेटर पर हैं। इस सूचना के बाद उन्होंने रेलवे स्टेशन के निरीक्षण का कार्यक्रम रद कर दिया। इसके बाद सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी भी दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं।

Posted By: Jagran