उन्नाव, जेएनएन। माखी कांड में किरकिरी कराने के बाद उन्नाव पुलिस सबक लेने को तैयार नहीं है। दुष्कर्म के मामले में पुलिस पीडि़ता को टरकाती रही और सोमवार को अपहरण के बाद उसकी हत्या कर दी गई। पीडि़ता का शवजंगल में पड़ा मिला तो सनसनी फैल गई। आक्रोशित लोगों की भीड़ सड़क पर उतर आई और जाम लगाने का प्रयास किया। इसपर पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया। एएसपी ने भी घटनास्थल पर पहुंचकर पड़ताल की।

बांगरमऊ कोतवाली में खंभउली गांव की एक युवती ने दुष्कर्म की शिकायत की थी। पीडि़ता और परिजन कई दिनों तक मुकदमा लिखाने के लिए थाने के चक्कर लगाते रहे। दो दिन पहले पीडि़ता रहस्मय ढंग से लापता हो गई। परिजनों ने पहले उसकी तलाश की लेकिन कुछ पता नहीं चला तो पुलिस को सूचना दी। इसके बाद भी पुलिस ने सक्रियता नहीं दिखाई। सोमवार की सुबह उसका शव कबीरपुर गांव के जंगल में पड़ा मिला। रक्तरंजित शव पड़ा मिलने से गांव में सनसनी फैल गई और लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। जानकारी होते ही परिजन भी मौके पर पहुंच गए और पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाने लगे।

इधर घटना की सूचना पर थाना पुलिस भी पहुंच गई और पड़ताल शुरू कर दी। प्राथमिक छानबीन में युवती की गला रेत कर हत्या करने के बाद शव जंगल में फेंकने की बात सामने आई। रविवार को जब युवती के पिता रिपोर्ट दर्ज कराने कोतवाली पहुंचे थे तो पुलिस ने टरका दिया थे। लेकिन हत्या की जानकारी पर जांच के लिए पहुंचे एसपी एमपी वर्मा ने पिता की तहरीर पर अपहरण का मुकदमा दर्ज होने की बात कही। पुलिस के लापरवाह रवैये पर नाराजगी जता परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया और सड़क पर जाम लगाने का प्रयास किया। पुलिस ने किसी तरह लोगों को समझाकर शांत कराया। पुलिस ने घटना की छानबीन शुरू करने के साथ अपहरण के मुकदमे में हत्या की धारा बढ़ाने की बात कही है।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस