जागरण संवाददाता, कानपुर : स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहर को साफ-सुथरा रखने के लिए जागरूकता अभियान व बैठके चल रही हैं लेकिन हकीकत के धरातल पर नतीजा सिफर है। हालत यह है कि कूड़े मे सड़के गुम हो गई है। गंदगी पर आवारा जानवर दिन भर धमा-चौकड़ी मचाते है। यह स्थिति तब है जब स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान शुरू हो गया है और कभी भी केद्रीय टीम सफाई व्यवस्था का जायजा लेने शहर आ सकती है। बर्रा दो से शास्त्री चौक को जोड़ने वाली सड़क पर एक नर्सिगहोम के पास दोपहर डेढ़ बजे 20 मीटर तक सड़क पर गंदगी फैली थी। गंदगी से सड़क पटी होने के कारण वाहनो को रफ्तार धीमी करनी पड़ रही थी। वहां सूअर, सांड़ व गाय गंदगी को और सड़क तक फैला रहे थे। धमाचौकड़ी के कारण अक्सर वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो जाते है। गंदगी के कारण क्षेत्रीय लोगो का सांस लेना दूभर है लेकिन इस समस्या का स्थायी समाधान नही किया जा रहा है। यही हाल दलेलपुरवा, नाला रोड, रावतपुर गांव, मरियमपुर समेत कई इलाको का था। दोपहर तक गंदगी सड़क पर फैली थी।