जागरण संवाददाता, कानपुर : अनवरगंज स्टेशन मे गुरुवार रात बड़ा हादसा होते बचा। पेट्रोल से भरी मालगाड़ी के उपर एक विक्षिप्त ओएचई (ओवर हेड इलेक्ट्रिक) की चपेट में आकर जलने लगा। आनन फानन वहां मौजूद रेलवे कर्मचारियों ने अग्निशमन यंत्र से आग बुझाई। पेट्रोल का संपर्क यदि आग से हो जाता तो बड़ा हादसा होने से कोई नहीं बचा सकता था।

अनवरगंज मे गुरुवार रात आठ बजे मालगाड़ी पेट्रोल लेकर अमौसी जाने के लिए तैयार खड़ी थी। मालगाड़ी के सभी 58 वैगन पेट्रोल से भरे थे। एक वैगन में 72 हजार किलो लीटर पेट्रोल था। तभी एक मानसिक विक्षिप्त व्यक्ति मालगाड़ी के वैगन पर चढ़कर खड़ा हो गया और ऊपर से गुजर रही ओएचई लाइन की चपेट में आ गया। तेज धमाके के साथ वह वैगन के ऊपर ही गिरकर जलने लगा। धमाका और आग की लपटें देख डिप्टी एसएस मुकेश कुमार और प्वाइंट मैन कमलेश कुमार स्टेशन पर लगे अग्निशमन यंत्र को लेकर दौड़े और आग बुझाई। विक्षिप्त को किसी तरह नीचे उतारा गया, जिसके बाद रेलवे अधिकारियों की सांस में सांस आई। विक्षिप्त को आरपीएफ ने उर्सला भेजा। सूचना पर उप मुख्य यातायात प्रबंधक हिमांशु शेखर उपाध्याय, स्टेशन अधीक्षक आरएनपी त्रिवेदी और अन्य रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंचे।

------

रेलवे कर्मचारियों की सजगता से हादसा टल गया। विक्षिप्त को अस्पताल भिजवाया गया है। आगे से ऐसा हादसा न हो, इसके लिए सुरक्षा के निर्देश दिए गए हैं। विक्षिप्त को आरपीएफ ने उर्सला भेजा। सूचना पर उप मुख्य यातायात प्रबंधक हिमांशु शेखर उपाध्याय, स्टेशन अधीक्षक आरएनपी त्रिवेदी और अन्य रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंचे।

हिमांशु शेखर उपाध्याय, उप मुख्य यातायात प्रबंधक