कानपुर, जेएनएन। जोनल अफसरों द्वारा संपत्तियों के बारे में आधी-अधूरी जानकारी दिए जाने से नाराज महापौर बैठक छोड़कर चली गईं। उन्होंने साफ कहा कि ऐसी बैठक से फायदा ही क्या जब अफसरों को कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने इसकी शिकायत सीएम योगी आदित्यनाथ से करने की बात कही है।

एक-एक संपत्ति का लेखा-जोखा लेकर आएं अफसर

महापौर प्रमिला पांडेय ने बुधवार को कार्यकारिणी कक्ष में संपत्तियों के निस्तारण और बकाया भुगतान को लेकर नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी और सभी जोनल अफसरों की बैठक बुलाई थी। इससे पहले 27 जून को भी इसी विषय पर बैठक हुई थी। इसमें अफसरों से कहा गया था कि जोनवार एक-एक संपत्ति का लेखा-जोखा लेकर आएं, लेकिन अफसर बुधवार को बैठक में आधी-अधूरी जानकारी लेकर पहुंचे। इस पर महापौर ने नाराजगी जताई और बीच बैठक में ही उठकर चली गईं। उन्होंने कहा कि अफसरों की लापरवाही की वजह से ही कार्रवाई नहीं हो पाती है।

दुकानों की जानकारी का सही जवाब नहीं दे पाए अफसर 

इससे पहले अफसरों ने बताया कि जोन एक में सर्वे का काम पूरा हो गया है। फोटोग्राफ लिया गया है पुराने आधार पर किराया लिया जा रहा है। जोन तीन में बारादेवी में 24 दुकानें, एम ब्लाक और साकेत नगर में 45 दुकानें, उस्मानपुर में 21 दुकानें है। इसके अलावा क्षेत्र में प्राइमरी स्कूल परिसर में 70 दुकानें है। इनका सर्वे पूरा हो गया है। प्रीमियम का एक चौथाई जमा है। जोन चार, पांच और छह में सर्वे पूरा हो गया है। जब महापौर ने प्रेमनगर धर्मशाला की दुकानों की जानकारी मांगी तो अफसर सही जवाब नहीं दे पाए। नगर आयुक्त ने कहा कि तेजी से सर्वे कराया जाए। साथ ही जोनों में रिकार्ड रूम के लिए क्या व्यवस्था है इसकी भी जानकारी दी जाए।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप