बांदा, जेएनएन। संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता आग से झुलस गई। पिता ने आरोप लगाया कि दहेज की मांग को लेकर ससुरालीजन बेटी को प्रताडि़त करते थे, पिता ने कहा कि ससुरालीजन ने बेटी को पीटकर आग लगाई है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसका उपचार किया जा रहा है।

बिसंडा कस्बा निवासी जगदीश की 23 वर्षीय पत्नी निधि के कपड़ों में सोमवार सुबह संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई। शोर सुनकर जब तक ससुर बाबा देव मौके पर पहुंचे, तब तक उसने खुद आग बुझा ली थी। स्वजन ने झुलसी अवस्था में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। ससुरालीजन आग कैसे लगी है, कारण स्पष्ट नहीं कर सके हैं। सूचना पर मायके से पिता हमीरपुर जिले के पिपरौंदा निवासी कौशल तिवारी पहुंच गए, उन्होंने बताया कि तीन वर्ष पहले उसकी बेटी की शादी हुई थी। शादी में हैसियत के हिसाब से दान दहेज दिया था। पति दिल्ली में रहकर कमाई करता है। उन्होंने आरोप लगाया कि शादी के बाद से दामाद व्यवसाय करने के लिए पांच लाख रुपये की मांग कर रहा था। मांग पूरी न होने पर ससुरालीजन उसे प्रताड़ित करते हैं। ससुराल की प्रताड़ना के बाद एक वर्ष बेटी अपने मायके में रही है। उन्होंने बताया कि चार दिन पहले 15 अक्टूबर को ससुर लेने आए थे। रिश्तेदारों के आपसी समझौता कराने पर ससुर के साथ बेटी को ससुराल भेज दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि ससुरालजनों ने बेटी को पीटकर उसे आग के हवाले कर दिया है। पिता के आरोप को ससुर ने नकार दिया है। उनका कहना है कि हम खुद नहीं जानते ये हादसा कैसे हुआ। आग से झुलसी विवाहिता का इलाज जिला अस्पताल में किया जा रहा है। डॉक्टरों के अनुसार अभी कुछ भी कहना मुश्किल है। उनकी मांग पर झुलसी बेटी के कलमबंद बयान कराए गए हैं। वहीं, मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस जांच में जुट गई है।

Edited By: Abhishek Agnihotri