कानपुर, जागरण संवाददाता। पुराने दौर में शिवपाल सिंह के साथ रहे कई सपाई इन दिनों उलझन में हैं। वह उनसे गुपचुप मुलाकात तो कर रहे हैं लेकिन खुलकर साथ आने का निर्णय नहीं ले पा रहे। माना जा रहा है कि यदि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) की लखनऊ रैली सफल हुई तो बड़ी संख्या में सपा नेता उनके साथ आ सकते हैं।
पारिवारिक विवाद के बाद नई पार्टी बना चुके पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह धीरे-धीरे अपने पुराने घर यानी सपा में सेंध लगाने में जुटे हैं। अब वह नौ दिसंबर को लखनऊ के रमाबाई मैदान में रैली के माध्यम से ताकत दिखाने जा रहे हैं। यह आयोजन प्रसपा के आगामी निकट भविष्य का पैमाना होगा, इसलिए टीम शिवपाल करो या मरो के नारे के साथ भीड़ इकट्ठा करने के लिए जुट गई है। यही नहीं, कानपुर में भी कई ऐसे दिग्गज सपा नेता हैं, जिनके शिवपाल यादव से अच्छे रिश्ते रहे हैं। वह उनसे चुपचाप मुलाकात करने के साथ ही संगठन को खड़ा करने और रैली को सफल बनाने में सहयोग कर रहे हैं।
वह मान रहे हैं कि यदि लखनऊ की रैली सफल हुई तो प्रसपा आगे खड़ी हो सकती है। तब वह सपा छोड़ प्रसपा में शामिल होने का रिस्क ले सकते हैं। इनमें एक दिग्गज माननीय भी हैं। इसके साथ ही प्रसपा के लिए संघ की तर्ज पर काम कर रहे शिवपाल सिंह यादव फैंस एसोसिएशन ने भी सदस्यों को भीड़ का लक्ष्य सौंप दिया है। एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष आशीष चौबे ने बताया कि हमारा संगठन प्रदेश के 68 जिलों में है। हर जगह से भीड़ पहुंचेगी। 

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप