जागरण संवाददाता, कानपुर : एक सप्ताह से शहर में ठिकाना बनाए तेंदुए की दहशत नवाबगंज के वीएसएसडी डिग्री कालेज परिसर से लेकर गंगा बैराज तक बरकरार है। उसकी तलाश में दिन-रात क्षेत्र को खंगाल रही वन विभाग की टीमों के हाथ अब तक खाली हैं। गुरुवार रात तेंदुए की कोई गतिविधि नहीं पाई गई। हालांकि, उसकी तलाश में टीमें दिन-रात एक किए हुए है, शुक्रवार रात पूरा रात कांबिंग चलती रही। तेंदुए को जल्द से जल्द पकड़ने के लिए अब आगरा से वाइल्डलाइफ सेव अवर सोल (सास) टीम भी बुलाई गई है। टीम के सदस्य शनिवार को शहर आएंगे। इस बीच सेठ मोतीलाल खेड़िया स्कूल के पास तीसरा पिजरा लगा दिया गया है। उधर, शनिवार को वीएसएसडी डिग्री कालेज को खुला रखने का फैसला किया गया है।

गुरुवार रात को विभिन्न स्थानों पर लगाए गए कैमरा ट्रैप में तेंदुए की गतिविधि नहीं दिखी। हालांकि दहशत के चलते वीएसएसडी डिग्री कालेज बंद रहा और आसपास क्षेत्र के लोग भी घरों के अंदर बैठे रहे। शुक्रवार पूरी रात तेंदुए की तलाश में वन विभाग के अफसर लगे रहे। चिड़ियाघर के चिकित्सक मो.नासिर ने बताया कि तेंदुए की चहलकदमी जहां-जहां हो रही है, वहां-वहां मादा तेंदुए की यूरीन का छिड़काव कराया गया है। कालेज परिसर से जुड़े नाले के दोनों ओर टीमों को अलर्ट पर रखा गया है। सेठ मोतीलाल खेड़िया स्कूल के पास तीसरा पिजरा लगा दिया गया है। पहले से एक पिजरा कालेज के किनारे घने जंगलों में लगाया गया है तो दूसरा कालेज के पीछे, जहां तेंदुए की लगातार गतिविधि रही है।

वन विभाग के अफसरों ने बताया कि आगरा से भी वाइल्डलाइफ सास टीम को बुलाया है। उसके पास आधुनिक उपकरण, बेहतर सुविधाओं के वाहन समेत रेस्क्यू से जुड़े सभी जरूरी उपकरण रहते हैं।

----------------

गंगा बैराज की ओर जाने वाला रास्ता बंद

नवाबगंज थाना प्रभारी आशीष द्विवेदी ने बताया कि तेंदुए को पकड़ने के लिए वन विभाग के अफसर सेठ मोतीलाल खेड़िया स्कूल से लेकर गंगा बैराज तक पेट्रोलिग करेंगे। रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक उक्त मार्ग पर यातायात बंद रहेगा।

----------------

तेंदुए को पकड़ने की तैयारी पूरी है। शुक्रवार रात भी तलाश जारी है। जहां भी तेंदुआ दिखेगा, उसे ट्रैंकुलाइज (बेहोश) किया जाएगा।

- अरविद यादव, डीएफओ

Edited By: Jagran