कानपुर, जागरण संवाददाता। लखीमपुर में गोला रेंज के राजकीय कृषि बीज संवर्धन केंद्र जमुनाबाद फार्म में तीन लोगों का शिकार करने वाला खूंखार और नरभक्षी तेंदुआ अब कानपुर चिड़ियाघर में उम्रकैद की सजा काटेगा। वन विभाग की टीम लखीमपुर से 48 घंटे बाद गुरुवार दोपहर दो बजे उसे लेकर चिड़ियाघर पहुंची। पिंजरे में कैद रहने के दौरान वह लगातार दहाड़ लगाकर अपना गुस्सा दिखाता रहा। आक्रामक स्वभाव को देखते हुए वन्य जीव चिकित्सकों ने उसे 12 दिन के लिए एकांतवास में छोड़ दिया है। 

कानपुर चिड़ियाघर के प्रभारी पशु चिकित्साधिकारी डा. अनुराग सिंह, डा. मोहम्मद नासिर, डा. नितेश कटियार की टीम ने लखीमपुर से आते ही तेंदुए का चिकित्सीय परीक्षण भी किया। डा. अनुराग सिंह ने बताया कि तेंदुए की उम्र करीब सात वर्ष है। उसने शाम तक करीब तीन किलोग्राम मांस खाया और तीन लीटर पानी पीया। इसके साथ ही अब चिड़ियाघर में तेंदुओं की संख्या बढ़कर 19 हो गई है।

Edited By: Ekantar Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट