कानपुर, जागरण संवाददाता। पांडु नदी किनारे रोक के बावजूद निर्माण कराया जा रहा था। मंगलवार को सिंचाई विभाग और तहसील की संयुक्त टीम के सर्वे में यह बात सामने आई। अब यहां बोर्ड लगाकर निर्माण कार्य न करने की चेतावनी दी जाएगी। साथ ही यहां मिट्टी भराई करने वालों को नोटिस जारी की गई है।  

पांडु नदी के डूब क्षेत्र में निर्माण पर रोक है। जिलाधिकारी के स्पष्ट आदेश हैं कि यहां नए निर्माण न होने पाएं। यदि कोई निर्माण करता भी है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। जिलाधिकारी के आदेश के बावजूद यहां प्लाटिंग कर जमीन बेचने की तैयारी है। पांडु नदी के डूब क्षेत्र में छह बीघा से अधिक जमीन को बेचने की तैयारी पर शिकायत हुई तो जिला प्रशासन ने जांच कराई।

मंगलवार को सिंचाई विभाग और तहसील की टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू की। पांडु नदी के किनारे करीब 30 मीटर डूब क्षेत्र को नापा गया तो मिट्टी की भराई इस डूब क्षेत्र में नदी किनारे तक पाई गई। करीब तीन घंटे चली जांच के बाद संयुक्त टीम ने अपनी जांच रिपोर्ट एसडीएम को दे दी है। करीब तीन बीघे तक डूब क्षेत्र में निर्माण पाया गया। एसडीएम सदर अभिनव गोपाल ने बताया कि पांडु नदी के किनारे डूब क्षेत्र तक जमीन की मार्किंग करा दी गई है। इसके साथ ही निर्माण करने वाले को नोटिस जारी की जा रही है। डूब क्षेत्र का चेतावनी बोर्ड लगवाने के निर्देश दिए गए हैं ताकि यहां आगे से कोई निर्माण न कर सके। डूब क्षेत्र के 30 मीटर के दायरे में कोई निर्माण नहीं होने दिया जाएगा, जो हो रहे हैं उन्हें हटवाया जाएगा।

Edited By: Ekantar Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट