जागरण संवाददाता, कानपुर :

सेना की बंगाल इंजीनिय¨रग कोर में तैनात कानपुर निवासी नायक इंद्रभान सिंह की गोली लगने से मृत्यु हो गई। किन परिस्थितियों में गोली लगी, परिजन को अभी इसकी जानकारी नहीं मिली है। बुधवार को शव आने के बाद ही पूरे घटनाक्रम की जानकारी मिल सकेगी।

मूलरूप से घाटमपुर तहसील के गांव गड़ाथा निवासी देवराज सिंह का परिवार कानपुर गल्ला मंडी में रहता है। देवराज सिंह के पांच बेटे हैं।ं चौथे नंबर के इंद्रभान सिंह सेना की बंगाल इंजीनिय¨रग कोर में तैनात थे और इस समय उनकी पोस्टिंग असोम के गुवाहाटी में थी। यह क्षेत्र नक्सली प्रभावित है। पिता देवराज सिंह ने बताया कि सोमवार देर रात इंद्रभान की यूनिट से फोन आया कि गोली लगने से उनकी मौत हो गई है। गोली किन परिस्थितियों में लगी, यह नहीं बताया गया। इस दुखद समाचार को सुनते ही घर में कोहराम मच गया। उन्होंने एक बेटे को गुवाहाटी के लिए रवाना कर दिया जो बुधवार सुबह शव के साथ कानपुर पहुंचेगा।

34 वर्षीय इंद्रभान सिंह की शादी वर्ष 2014 में मध्यप्रदेश के मुरैना निवासी प्रियंका से हुई थी। एक साढ़े चार साल का बेटा है, जिसका नाम सुमन्यू है। बड़े भाई चंद्रभान सिंह चीनी मिल में इंजीनियर और संजय सिंह पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं तो उदयभान सिंह की मूसानगर में मोबाइल की दुकान है।सबसे छोटा हरिओम सिंह सिंदराबाद की सैन्य यूनिट में जेसीओ पद पर तैनात है।

Posted By: Jagran