कानपुर, जागरण संवाददाता। किदवई नगर के चालीस दुकान बाजार में व्यापारियों ने शुक्रवार देर आठ दुकानों के जलने के मामले में अराजकतत्वों पर आग लगाने का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

किदवईनगर थाना क्षेत्र में करीब 60 साल पुरानी चालीस दुकान के नाम से बाजार है। यहां 40 पक्की दुकानें और 200 से ज्यादा टट्टर से बनी दुकानें हैं। शुक्रवार रात करीब एक बजे बजे किदवईनगर के शिवदयाल की खिलौने की दुकान में आग लग गई। आग की लपटों से मो. अलीम की पीको-फाल की दुकान, किदवईनगर निवासी ओमप्रकाश की होजरी, नौबस्ता संजयगांधी नगर निवासी सुभाष चंद्र की साड़ी की दुकान, अनूप गुप्ता की क्राकरी, राजू की चाय-समोसे की दुकान, रंजीत की कपड़े की दुकान, मो. अलताब खान की चूड़ी की दुकान में आग लग गई। आग लगी देख सूचना कंट्रोल रूम और दुकानदारों को दी गई। मौके पर फजलगंज, लाटूशरोड और मीरपुर फायर स्टेशन की तीन दमकल की गाडिय़ां पहुंची और डेढ़ घंटे में आग पर काबू पाया। व्यापारी ओमप्रकाश, सुभाष चंद्र, अलीम आदि व्यापारियों का आरोप है कि कुछ लोग उनकी दुकानें यहां से हटवाना चाहते हैं। इसलिए दुकान में आग लगाई गई है। उनका कहना है कि सभी व्यापारी दुकानें बंद करने के बाद कटआउट भी निकाल देते हैं। शार्ट सर्किट से आग लगने की बात गलत है।बाबूपुरवा थाना प्रभारी प्रदीप कुमार ङ्क्षसह ने बताया कि प्रथम²ष्टया आग शार्ट सर्किट से लगने की जानकारी मिली है। आग लगाए जाने के आरोपों की जांच की जा रही है।

पहले भी लग चुकी आग

चालीस दुकान बाजार में जून 2015 में टट्टर से बनी 10 दुकानों में आग लगी थी। इसी तरह से नवंबर 2017 में भी करीब 18 दुकानों में भीषण आग लग चुकी है। अब एक बार फिर आठ दुकानों में आग लग गई। 

Edited By: Abhishek Verma