जागरण संवाददाता, कानपुर : दिल्ली विश्वविद्यालय से इंजीनिय¨रग की पढ़ाई करके भारतीय प्रशासनिक सेवा में आई सौम्या अग्रवाल प्रदेश सरकार के ऊर्जा विभाग, कई जिलों में डीएम के बाद अब केस्को एमडी के पद पर तैनात हैं। बिजली चोरी बंद करवाकर शहर का रेवेन्यू बढ़ाने की जिम्मेदारी के साथ ही उनका प्रमुख ध्येय जनता के बीच केस्को की छवि सुधारना है। साथ ही शहर को 24 घंटे बिजली मिले और उसका बिल शत प्रतिशत जमा हो। प्रस्तुत है केस्को एमडी सौम्या अग्रवाल से हमारे वरिष्ठ संवाददाता शरद त्रिपाठी की बातचीत के कुछ अंश।

प्रश्न: शहर की आबादी लगभग 50 लाख है। इसके हिसाब से कितनी बिजली की सप्लाई हो रही है?

उत्तर: शहर की आबादी के हिसाब से बिजली की सप्लाई पर्याप्त हो रही है। कई बार फाल्ट आदि समस्याएं सामने आ जाने से सप्लाई बाधित हो जाती है। शहरी क्षेत्र में 24 घंटे सप्लाई के आदेश हैं मगर 22 घंटे तक सप्लाई हो रही है।

प्रश्न: शहर में बिजली लोड को देखते हुए शहर के ट्रांसफार्मरों और बिजली के इंफ्रास्ट्रक्चर की क्या स्थिति है?

उत्तर: शहर में बिजली लोड देखते हुए 400 करोड़ रुपये की आइपीडीएस योजना में अधिक क्षमता और आधुनिक तकनीक वाले ट्रांसफार्मर लगाए जा रहे। 70 फीसद काम पूरा हो गया है, शेष 15 अप्रैल तक पूरा हो जाएगा।

प्रश्न: प्रदेश में नई सरकार के बाद शहर को क्या सहूलियतें मिलीं और आगे की क्या तैयारी है?

उत्तर: सरकार का फोकस जनता को मिलने वाली सुविधाओं पर है। सभी डिवीजन में हेल्प डेस्क बनेगी। सौभाग्य योजना के तहत निश्शुल्क कनेक्शन बांटे जा रहे हैं। 1912 हेल्पलाइन नंबर और ट्विटर, फेसबुक और वॉट्सएप नंबर पर केस्को आकर जनता से सीधा संवाद स्थापित कर रहा है।

प्रश्न: औद्योगिक नगरी कानपुर में उद्योगों को बिजली की सप्लाई के लिए क्या इंतजाम है?

उत्तर: शहर के औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने मुझसे आकर बात की। वह सप्लाई के घंटों से संतुष्ट हैं, लेकिन गुणवत्तायुक्त सप्लाई में सुधार की जरूरत है। इसके लिए सिस्टम को 6.6 केवी से 11 केवी में अपग्रेड किया जा रहा।

प्रश्न: गर्मियों आ ही गई है। 24 घंटे बिजली सप्लाई के लिए क्या उपाए हो रहे?

उत्तर: केस्को ने काफी काम कर लिया है। स्टोर में नए ट्रांसफार्मर व मरम्मत से जुडे़ अन्य उपकरण भी पर्याप्त मात्रा में जमा कर लिए गए हैं।

प्रश्न: शहर में बिजली चोरी रोकने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं?

उत्तर: केस्को की रेड टीम, यूपीपीसीएल की रेड टीम बनाई गई है। अधिक लाइन लॉस और बिजली चोरी वाले इलाके में अंडर ग्राउंड केबलिंग हो रही।

प्रश्न: केस्को कर्मियों के साथ मारपीट होती है और गंभीर आरोप लगते हैं, ऐसी स्थिति से कैसे निपटेंगी?

उत्तर: बिजली चोरी पर कार्रवाई के लिए यूपीपीसीएल का नया इंफोर्समेंट एप बनाया गया है। हर घटनाक्रम में तुरंत एफआइआर दर्ज कराने के आदेश हैं। अधिकारियों और थाने में समन्वय बनाया जा रहा है।

प्रश्न: शहर की रोड लाइटें रात दिन जला करती हैं, यह लोड बढ़ाती हैं?

उत्तर: यह कार्यक्षेत्र नगर निगम का है। लाइट दिन में भी जलने से सप्लाई पर लोड भी पड़ता है। इसके लिए कार्ययोजना तैयार की जाएगी। शासन की तरफ से स्ट्रीट लाइट पर पहले से सोलर पावर स्विच लगाने के निर्देश हैं।

प्रश्न: केस्को उपभोक्ताओं की राह आसान करने के लिए कौन कौन सी नई योजनाएं और सुविधाएं लाई जा रही हैं?

उत्तर: केस्को ने उपभोक्ताओं की राह आसान करने के लिए आनलाइन शिकायतें दर्ज करने से लेकर आनलाइन बिल जमा करने की सुविधा दे रखी है। ऊर्जा मित्र एप से जल्द ही बिजली जाने आदि की सूचनाएं भी उपभोक्ताओं को मिलने लगेंगी।

प्रश्न : कई जगह खंभे और तार जर्जर स्थिति में हैं, इनमें सुधार के लिए क्या किया जा रहा है?

उत्तर: जर्जर खंभे सुधारने का काम आइपीडीएस योजना में शामिल नहीं होता है। वह सूचना आने के बाद ही बदल दिया जाता है। अगर जर्जर खंभे हैं तो शिकायत करें, उन्हें बदल दिया जाएगा।

प्रश्न: केस्को की वर्कशॉप में ट्रांसफार्मर मरम्मत की योजना कितनी फलीभूत हुई?

उत्तर: ट्रांसफार्मर मरम्मत की वर्कशॉप से काफी सुधार हुआ, जल्द ही एक और वर्कशॉप आयोजित की जाएगी। इसके बाद यहां से निकलने वाले ट्रांसफार्मर की प्रापर चेकिंग की जाएगी वह भी टेक्निकल टीम द्वारा। साथ ही एक्सईएन को लूप में लिया गया है। उन्हें पता होगा कि कौन सा ट्रांसफार्मर कब स्टोर से निकला। कब खराब हुआ।

Posted By: Jagran