कानपुर, जागरण संवाददाता।  मानसून की अक्षीय रेखा की दिशा बदलने के कारण मौसम में भी असर दिखाई दे रहा है। 14 अगस्त को झमाझम 90 मिलीमीटर से ज्यादा वर्षा होने के बाद फिर मौसम शुष्क होने लगा है। मंगलवार को कुछ स्थानों पर बूंदाबांदी व बौछार पड़ी, लेकिन तेज धूप से उमस का अहसास हुआ। कुल 3.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 33.2 और न्यूनतम 25.6 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग ने अगले दो दिन तक तेज धूप खिलने के आसार जताए हैं।

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि 14 अगस्त को निम्न दबाव का क्षेत्र विकसित होने के कारण नम हवा तेजी से गंगा के मैदानी क्षेत्र में आकर बादल बना रही थीं। इसी वजह से 14 अगस्त की सुबह जमकर वर्षा हुई। सोमवार से निम्न दबाव का क्षेत्र पश्चिम भारत की ओर बढ़ा है। इसके चलते बादलों में कमी आ रही है और तेज धूप खिलने लगी है। 

मानसून की अक्षीय रेखा भी मध्य भारत में बनी हुई है और वहां वर्षा करा रही है। अक्षीय रेखा जैसलमेर, कोटा, मध्यप्रदेश होते हुए बंगाल की खाड़ी के उत्तर पूर्व की ओर जा रही है। 18 अगस्त के बाद एक बार फिर इस रेखा के उत्तर भारत की ओर बढ़ने के आसार हैं। तब यूपी समेत उत्तर भारत के राज्यों में तेज वर्षा हो सकती है। इस दौरान तेज धूप खिलने, हवा की गति ज्यादा रहने और कुछ स्थानों पर गरज व चमक के साथ बूंदाबांदी और हल्की वर्षा होने की संभावना है।

Edited By: Abhishek Verma