कानपुर, जागरण संवाददाता। नई सड़क पर उपद्रव के दौरान गोली लगने से घायल उपद्रवी की तलाश में शनिवार को 50 पुलिसकर्मियों के साथ मुखबिरों को सक्रिय किया गया है। हालांकि, रात तक इस बारे में कोई सटीक जानकारी नहीं मिली है। अब एसआइटी फिर से पैथोलाजी और नर्सिंगहोम संचालक से पूछताछ करेगी। सीसी कैमरों के फुटेज भी निकलवाने की तैयारी है।

नई सड़क पर बीते तीन जून को जुमे की नमाज के बाद चंद्रेश्वर हाते के सामने दुकानें बंद कराने के विरोध पर बवाल हुआ था। उपद्रवियों की भीड़ ने पथराव, गोलीबारी और बमबाजी की थी। पथराव में सात लोग गंभीर और 30 लोग मामूली रूप से घायल हुए थे। मामले की जांच में सामने आया कि उपद्रवियों की ओर से हुई फायरिंग में पास खड़े एक साथी के सीने में गोली लगी थी। इसके बाद, उपद्रवी अपने घायल साथी को चमनगंज की एक पैथोलाजी ले गए थे। जहां उसका एक्सरे कराया गया।

पुलिस को एक्सरे रिपोर्ट भी मिली है। पैथोलाजी की रिपोर्ट में उसका नाम चमनगंज निवासी रियाज दर्ज है। पैथोलाजी से पता चला कि बाद में उसके साथी उसे दलेलपुरवा के मोहम्मदिया अस्पताल ले गए। यहां पुलिस पूछताछ में डाक्टरों ने गोली लगे युवक के आने की पुष्टि करते हुए यह बताया था कि सीने के नीचे गोली लगी होने से उसे लौटा दिया गया था। शनिवार को घायल उपद्रवी की तलाश के लिए एसआइटी ने 50 पुलिसकर्मियों और चमनगंज व आसपास के क्षेत्र में मुखबिरों को सक्रिय किया है।

रियाज नाम के कई युवकों से हुई पूछताछ : उपद्रवी की तलाश के लिए पुलिस घनी आबादी में रहने वाले रियाज नाम के कई युवकों को पूछताछ के लिए बुलाया। दोपहर में चमनगंज से एक बुजुर्ग कैंसर मरीज को भी बुलाया गया था। रियाज उनका ही बेटा बताया जा रहा था। पूछताछ में उसने बताया कि उनका कोई बेटा नहीं है, सिर्फ बेटियां ही हैं। करीब आधे घंटे तक पूछताछ के बाद पुलिस ने उन्हें वापस भेज दिया।

Edited By: Abhishek Agnihotri