कानपुर, जेएनएन। शहर में संचालित विभिन्न खेल संघ बिना मान्यता के खिलाडिय़ों को अपने प्रलोभन में नहीं फसा सकेंगे। खेल विभाग ने शहर के सभी खेल संघों के प्रमाण पत्र की जांच शुरू कर दी है। उपनिदेशक खेल मुद्गिका पाठक के निर्देश के बाद खेल संघों ने ग्रीनपार्क में पहुंचकर अपने एसोसिएशन को मान्यता प्राप्त होने का प्रमाण पेश किया है। वहीं जो लोग नहीं पहुंच सके उन्होंने फोन के जरिए ही विभाग को अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है।

शहर का खेल विभाग खिलाडिय़ों को बेहतर और मान्यता प्राप्त खेल संघों की जानकारी देने के लिए पिछले कई दिनों से योजना बना रहा था। जिसको जमीनी स्तर पर लागू कराने के लिए उपनिदेशक खेल मुद्गिका पाठक ने पिछले दिनों शहर के सभी खेल संघों को प्रमाण पेश करने के लिए पत्र लिखा। पत्र में क्षेत्रीय क्रीड़ा विभाग द्वारा शहर में संचालित विभिन्न खेल संघों से उनकी सूची मांगी है। उन्होंने बताया कि खिलाडिय़ों के भविष्य को सुरक्षित और उन्हेंं सही मार्गदर्शन में प्रशिक्षण के लिए विभाग की ओर से यह प्रक्रिया शुरू की गई है। तीन दिन के अंदर सभी एसोसिएशन को संबंद्ध अध्यक्ष, सचिव और पदाधिकारियों की सूची क्षेत्रीय खेल विभाग को उपलब्ध करानी होगी।

जिसका सत्यापन जिलास्तर पर करने के बाद सूची को लखनऊ निदेशालय के लिए भेजा जाएगा। उन्होंने बताया कि शहर के अंदर विभिन्न खेलों में कई बिना मान्यता प्राप्त एसोसिएशन चल रहे हैं। जिसके प्रचार में फंसकर कई होनहार खिलाड़ी अपने कॅरियर के साथ खेल कर चुके हैं। अवैध रूप से चल रहे फर्जी खेल संघ खिलाडिय़ों को गलत प्रमाण पत्र देकर उनसे मोटी रकम वसूलते हैं। खेल विभाग ऐसे खेल संघों पर रोक के लिए यह सूची तैयार कर रहा है। ऐसे एसोसिएशन द्वारा शहर में अवैध रूप से आएं दिन विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। जिसका कोई स्तर नहीं होता है। क्षेत्रीय क्रीड़ा विभाग में लगभग 30 खेल संघों ने अपनी मान्यता को लेकर उपस्थिति दर्ज कराई। 

Edited By: Abhishek Agnihotri