कानपुर, जागरण संवाददाता। नौबस्ता में के-ब्लाक किदवई नगर में दुकान बंद कर रहे सराफ पिता-पुत्र को भरे बाजार गोली मारकर लूटपाट के मामले में पुलिस को बोलेरो सवार लुटेरों का अभी कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। छह वर्ष पूर्व उन्नाव में 21 लाख का सोनू लूटकांड में तीन बदमाशों और वारदात में बोलेरो का इस्तेमाल होने से पुलिस का शक गहराया है। पुलिस शहर समेत सात जिलों की जेल में पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही है। शनिवार को एसीपी गोविंद नगर की अगुवाई में एक टीम उन्नाव जेल गई थी।

एम-ब्लाक किदवई नगर के सुरेश वर्मा की के-ब्लाक किदवई नगर में गायत्री ज्वैलर्स के नाम से दुकान है। बुधवार रात नौ बजे वह दुकान बंद कर रहे थे। 30 वर्षीय बेटा शशांक भी बैग लिए बगल की बेकरी लेकर खड़ा था। तभी सफेद रंग की बोलेरो सवारों ने पहुंचकर ताबड़तोड़ फायिरंग कर दी थी। जिसमें पिता-पुत्र घायल हो गए थे। गोली मारने के बाद बदमाश शशांक के कंधे पर टंगे दोनों बैग लूट ले गए थे। जिसमें लैपटाप थे। देर रात पुलिस ने सुरेश के बर्रा विश्वबैंक निवासी साढ़ू मनोज कुमार सोनी की तहरीर पर लूट और हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू किए थे। बदमाश पुरानी मौरंग मंडी से हमीरपुर रोड होकर गलियों से किदवई नगर थाने की ओर निकले थे। उसके बाद से उनका कोई फुटेज नहीं मिला था।

इधर बोलेरो और राइफल से फायिरंग करके लूट की वारदात को पुलिस ने छह साल पहले कानपुर-लखनऊ नेशनल हाई-वे पर हार्ड वैल्यू ज्वैलरी ट्रांसपोर्टेशन का काम करने वाली सिक्वेल लाजिस्टिक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के ड्राइवर की हत्या और गार्ड को घायल कर करीब सात किलोग्राम सोने की ज्वैलरी लूटी गयी थी। घटना में बदमाशों ने बोलेरो गाड़ी का इस्तेमाल किया था और घटना को अंजाम देने वाले भी तीन ही लोग थे।

स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने लुधियाना निवासी जीवन कुमार, लखनऊ सरोजनी नगर निवासी अमित सिंह और ऐशबाग पीएनटी कालोनी निवासी मधुकर पाण्डेय को गिरफ्तार किया था। सोना लूटकांड को आधार बनाकर पुलिस ने शहर के साथ सात जिलों लखनऊ, हमीरपुर उन्नाव, कानपुर देहात, फतेहपुर, जालौन जेल में बंद अपराधियों और वहां के खबरियों को सीसीटीवी फुटेज दिखाकर तलाश शुरू की है।

Edited By: Abhishek Agnihotri