कानपुर, जागरण संवाददाता। इंश्योरेंस का प्रीमियम जमा करने के नाम पर साइबर ठगी करने वाले गैंग का क्राइम ब्रांच ने खुलासा कर दिया है। गिरोह चंदौसी और दिल्ली में काल सेंटर से लोगों को शिकार गैंग अबतक करीब तीन करोड़ की ठगी कर चुका है। क्राइम ब्रांच ने तीन अभियुक़्तों को गिरफ्तार करके कई लोगों का डाटा व 19 मोबाइल समेत लैपटॉप बरामद किए हैं।

ऐसे हुआ ठगी गिरोह का खुलासा

थाना कल्याणपुर क्षेत्र के निवासी वाटर सप्लायर्स और कैटर्स शत्रुघ्न महतो ने 2019 में एक्साइड लाइफ इंश्योरेंस से पॉलिसी ली थी। 14 सितंबर को उनके पास इंश्योरेंस का प्रीमियम भरने के लिए कॉल आई। फोन करने वाले ने प्रीमियम जमा करने पर 10 प्रतिशत छूट दिलाने की बात कही। इस पर उन्होंने क़िस्त का 47950 रुपये ऑनलाइन जमा कर दिया और रसीद मांगी तो टरका दिया गया। रसीद के एवज में और रुपयों की मांग की गई। इसके बाद उन्हें ठगी का एहसास हुआ तो थाना कल्याणपुर में शिकायत की थी।

चंदौसी से संचालित हो रहा था काल सेंटर : क्राइम ब्रांच के पास आया मामला क्राइम ब्रांच ने जब जांच शुरु की तब पता चला यह गैंग चंदौसी से संचालित हो रहा है। इस पर टीम ने सबसे पहले चंदौसी संभल निवासी अतुल कुमार को गिरफ्तार किया। अतुल गरीब लोगों को लालच देकर उनके अकाउंट व एटीएम ले लेता है और इसके बदले उन्हें कुछ पैसे भी देता है। अतुल से पूछताछ में बिल्सी धनौली जनपद बंदायू निवासी दर्शन का नाम सामने आया, जो अपने घर से ही कॉल सेंटर चला रहा था। दर्शन ने दिल्ली के रहने वाले रघुवीर जो कि स्वयं एक कॉल सेंटर चलाता है। उसने कुछ पैसे लेकर विभिन्न इंश्योरेंस कंपनी की पालिसी लेने वालों का डाटा इन्हें उपलब्ध कराया था। टीम ने इन तीनो को हिरासत में ले लिया है। अभी एक अभियुक्त की तलाश में टीम दबिश दे रही है जिसके खाते में पैसे ट्रान्सफर हुए हैं।

पब्लिसिटी साइड से भी लिया डाटा : गैंग के सदस्य कई पब्लिसिटी वेबसाइट से भी लोगों का डाटा चुराता था। उनकी आई डी व पासवर्ड बनाकर लोगों के अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर समेत कई सारी जानकारियां एकत्र करते थे। इसके बाद इन साइट से लोगों के पास मोबाइल और इमेल पर मैसेज भेजे जाते थे। उनका डाटा इन साइट के पास उपलब्ध हो जाता है।

यह हुआ बरामद : अभियुक्तों के पास से 19 मोबाइल, एक लैपटाप, अलग अलग बैंको के 28 एटीएम कार्ड व करीब एक हजार लोगों का डाटा बरामद हुआ है।

इस तरह बनाते थे शिकार : कॉल सेंटर से उन लोगों को फ़ोन किया जाता था। जिनका डेटा इनके पास था। फ़ोन करके यह लोगों को प्रीमियम में 10 प्रतिसत की छूट, कम ब्याज पर लोन आदि का झांसा देते थे। जो इनके झांसे में आ जाता वो फंस जाता था। ऐसे करके करीब 1000 से अधिक लोगों को यह अपना शिकार बना चुके हैं।

इनकी हुई गिरफ्तारी

अतुल कुमार निवासी गोव व पो0 मौला गढ़ थाना चन्दौसी जनपद सम्भल

दर्शन श्रीवास्तव निवासी ग्राम धनौली पो0 सिमल्ला भौजपुर थाना विल्सी बंदायू

रघुवीर कुमार निवासी जानकी विहार दिल्ली मूलनिवासी गोरखपूर, यूपी।

Edited By: Abhishek Agnihotri