कानपुर, जेएनएन। बिधनू सेन चौकी क्षेत्र के अर्रा बिनगवां केडीए की खाली जर्जर कालोनियों में अवैध असलाह फैक्ट्री संचालित हो रही थी। पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार कर बने व अधबने असलहों को जखीरा बरामद किया है। वहीं एक युवक भाग निकला है, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है।

बिधनू थाना प्रभारी सुखराम सिंह रावत ने बताया कि अर्रा की केडीए जर्जर कालोनी में अवैध असलहे फैक्ट्री की सूचना पर फोर्स के साथ दबिश दी। पुलिस को देखकर असलहे बना रहे तीन युवक भागने लगे। टीम ने दो युवकों को दौड़ाकर पकड़ लिया, जबकि एक साथी भागने में सफल हो गया। कालोनी के अंदर से असलहे बनाने के उपकरण व मशीन के साथ एक दर्जन से ज्यादा तमंचे और अधबने असलहे समेत नाल, गैस सिलेंडर आदि बरामद किया गया है। पकड़े गए युवकों ने अपना नाम महोबा सतबरा निवासी रामदास व साबिर बताया है। वह करीब एक वर्ष से अवैध असलहा का कारोबार कर रहे थे। दोनों से फरार साथी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

अपराधियों को पनाह दे रहीं खंडहर कालोनियां

अर्रा बिनगवां में केडीए द्वारा बसाई गई कालोनी में रहना किसी दुश्वारी से कम नहीं है। यहां जब कालोनियां बनायी जा रही थीं तो लोगों को बड़े-बड़े सपने दिखाए गए लेकिन सपने हकीकत में नहीं बदल सके। आज खंडहर हो चुकी ये कॉलोनियां अपराधियों की पनाह स्थली बन चुकी हैं। पूर्व में कई बार पुलिस ने दबिश दी थी तो कालोनियों में अपराधियों ने फायरिंग और पथराव किया था।

जुआडख़ाना और मादक पदार्थ का ठिकाना

बिधनू और नौबस्ता सीमा पर पडऩे वाली अर्रा केडीए कालोनियों में पास के पहाड़पुर गांव और बिनगवां के अपराधियों का आतंक रहता है। लूटपाट करने के बाद गैंग का ठिकाना कालोनियां होती हैं। कुछ दिन पहले कालोनियों में युवक को लेकर हत्यारों ने सिर, पैर, हाथ काटकर अलग कालोनियों में कटे अंग फेंक गए थे। जुआडख़ाना पकडऩे के लिए पुलिस ने कई बार छापा मारा। इसपर अपराधियों पुलिस से हाथापाई कर फायरिंग कर दी थी। खंडहर पड़ी कालोनियों में लोग अवैध रूप से काबिज हैं। कालोनियों में जुआ होने के साथ मादक पदार्थो की बिक्री का धंधा फलफूल रहा है।

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप