कानपुर, जागरण संवाददाता। मैकराबर्टगंज स्थित पीडब्ल्यूडी कालोनी में बनी एक मजार को लेकर मंगलवार को विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि एक साजिश के तहत कुछ सालों के दौरान यह मजार स्थापित कर दी गई और अब लगातार उसे विकसित करके एक धार्मिक स्थल का स्वरूप दिया जा रहा है।

जबकि मजार सरकार जमीन पर स्थित है और बिजली पानी की सारी सुविधा सरकारी है। हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने यहां हो रहा नव निर्माण गिरवा दिया है और मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

ग्वालटोली थानाक्षेत्र स्थित मैकरावर्टगंज कालोनी के सामने पीडब्ल्यूडी कालोनी है। यहां उन्नाव में तैनात अधीक्षण अभियंता अखिलेश दिवाकर का सरकारी मकान है। इनके मकान की दीवार से सटी सरकारी जमीन के एक बड़े हिस्से में मजार है। मजार पर हजरत सैय्यद बदरुद्दीन और हजरत सैय्यद कमालुद्दीन का बैनर लगा है। यहां पर वजू करने के लिए पानी टंकी स्थित है, जिसका पानी पीडब्ल्यूडी कालोनी से ही सप्लाई होता है।

विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री युवराज ने बताया कि उन्हें कुछ लोगों के माध्यम से इस मजार की सूचना लगी और बताया गया कि दस साल पहले किसी मुस्लिम अधिकारी ने इसकी नींव रखी और तब से यह मजार लगातार आकार बढ़ा रही है। पड़ताल करने पर पता चला कि एक दशक पहले यहां केवल तखत भर की जग जगह थी, जो कि अब बड़ा आकार ले चुका है। एक सर्वेंट क्वार्टर भी इन लोगों ने कब्जा लिया है।

इस सूचना पर ही विहिप और बजरंग दल के कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे और विरोध दर्ज कराया। विरोध और हंगामा की सूचना पर एसीपी कर्नलगंज अमरनाथ यादव व इंस्पेक्टर ग्वालटोली नंद किशोर मिश्रा मौके पर पहुंचे। पुलिस ने यहां पर नव निर्मित दीवार व एक गेट गिरवा दिया। इसके बाद मजार के गेट पर अपना ताला डाल दिया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि जांच की जाएगी कि मजार कब बनी और इसके पीछे कौन लोग हैं। अगर मजार का निर्माण अवैध पाया गया तो निश्चित रूप से कार्रवाई होगी।

हो चुका है सालाना उर्स : विहिप जिला मंत्री ने बताया कि जानकारी पर पता चला है कि कुछ सालों के दौरान यहां की गतिविधियों में तेजी बढ़ी है। दिल्ली से लोग यहां आ रहे हैं। पिछले साल सालान उर्स के नाम पर अच्छी खासी भीड़ भी एकत्र की गई थी। उन्होंने मांग की कि पुलिस जांच करे कि इस पूरी व्यवस्था के पीछे कौन लोग शामिल हैं। जो लोग हैं, उनके बारे में भी पड़ताल की जाए।

Edited By: Nitesh Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट